एनपीपी नेता तिरोंग और उनके बेटे समेत 11 की हत्या, उग्रवादियों पर हमले का आरोप

नयी दिल्ली: अरुणाचल प्रदेश के तिराप जिले में मंगलवार को नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) नेता तिरोंग अबोह और उनके बेटे समेत 11 लोगों की हत्या कर दी गई। नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नागालैंड (एनएससीएन) के उग्रवादियों ने मंगलवार सुबह करीब 11:30 बजे उनके काफिले पर उस वक्त हमला किया, जब वे असम से अपने विधानसभा क्षेत्र खोंसा जा रहे थे। तिरोंग अबोह 2014 में पीपुल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल के टिकट पर खोंसा पश्चिम विधानसभा से विधायक चुने गए थे। वे इस बार एनपीपी के टिकट पर दोबारा इस सीट पर चुनाव लड़ रहे थे।
गृह मंत्री राजनाथ सिंह से हस्तक्षेप की मांग
घटना की निंदा करते हुये एनपीपी अध्यक्ष और मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड पी संगमा ने इस मामले में प्रधानमंत्री कार्यालय और केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के हस्तक्षेप की मांग की है। उन्होंने ट्वीट करके कहा कि एनपीपी इस घटना में अपने विधायक तिरोंग अबोह (अरुणाचल प्रदेश) और उनके परिजनों की मौत से स्तब्ध और दु:खी है और वे इस हमले की निंदा करते हैं और पीएमओ एवं राजनाथ सिंह से इस घटना के जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई करने की मांग करते हैं।
केन्द्रीय गृह मंत्री ने दुःख व्यक्त किया
केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने तिरोंग अबोह समेत 11 लोगों की हत्या पर क्षोभ व्यक्त करते हुए इसे पूर्वोत्तर क्षेत्र में शांति भंग करने की कोशिश करार दिया है। गृह मंत्री ने कहा है कि वह इस घटना से क्षुब्ध तथा स्तब्ध हैं। यह पूर्वोत्तर क्षेत्र में शांति और सामान्य स्थिति को अस्थिर करने की क्रूर कोशिश है। इस घृणित अपराध के दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा।

साजिश करने वालों को बख्शेंगे नहीं- सीएम खांडू
डीजीपी एसबीके सिंह ने कहा कि तिरोंग के साथ उनके बेटे, अन्य परिजन और 4 सुरक्षाकर्मी थे। अरुणाचल के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने कहा कि इस हमले की साजिश रचने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। हमने इसके लिए कार्रवाई शुरू कर दी है।
शेयर करें

मुख्य समाचार

मोदी ने अनुच्छेद 370, 35ए हटा कर पाक को दिखायी उसकी जगह : शाह

कांग्रेस को आड़े हाथों लिया, कहा- राहुल लोगों को बतायें कि वे केंद्र के फैसले के पक्ष में हैं या नहीं जामताड़ा (झारखंड) : झारखंड में आगे पढ़ें »

मैंने हिन्दी थोपने की बात कभी नहीं की : शाह

दूसरी भाषा के तौर पर इसके इस्तेमाल की वकालत की रांची : हिंदी पर अपने बयान से उठे विवाद को शांत करने का प्रयास करते हुए आगे पढ़ें »

ऊपर