उपराष्ट्रपति ने आतंकवाद के खात्मे के लिये विश्व समुदाय से एकजुट होने की अपील की

बेंगलुरू : श्रीलंका में हुये आतंकी हमलों पर क्षोभ जाहिर करते हुये उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने सोमवार को विश्व समुदाय से आतंकवाद के खात्मे के लिये एकजुट होकर कदम उठाने की अपील की है। उन्होंने कहा कि इस दुख की घड़ी में वहां के लोगों एवं सरकार के साथ भारत मजबूती से खड़ा है।
अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों से चर्चा संपन्न करने की मांग
नायडू ने दुनिया के विभिन्न हिस्सों में आतंकवादी हमलों पर क्षोभ जाहिर करते हुए भारत द्वारा पेश ‘कंप्रहेंसिव कन्वेंशन ऑन इंटरनेशनल टेररिज्म’ पर संयुक्त राष्ट्र जैसी अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों से चर्चा संपन्न करने की मांग की। मालूम हो कि भारत ने हर प्रकार के अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद को अपराध घोषित करने तथा आतंकवादियों, उनके वित्तपोषकों और समर्थकों को हथियार, धन एवं सुरक्षित ठिकानों पर रोक लगाने की मांग की है।
जड़ से इसका खत्मा करना होगा
उपराष्ट्रपति ने बेंगलोर विश्वविद्यालय के 54वें वार्षिक दीक्षांत समारोह के दौरान अपने संबोधन में कहा कि ‘‘महज निंदा और मुआवजे से कोई लाभ नहीं होगा। हमें इनके मूल में जाकर जड़ से इसका खत्मा करना होगा।’’
किफायती उच्च शिक्षा की उपलब्धता चुनौती
नायडू ने सभी को किफायती उच्च शिक्षा की उपलब्धता सुनिश्चित करने को चुनौती बताते हुए कहा कि शिक्षा के व्यावसायीकरण तथा ज्ञान के बिकाऊ माल की तरह बन जाने से उपलब्धता सीमित हो गयी है। उन्होंने कहा कि जहां तक उच्च शिक्षा का सवाल है, सामाजिक समानता और स्त्री-पुरुष समानता के सिद्धांत सर्वोपरि हो जाते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘यह जाति, नस्ल, धर्म और लिंग के बंधन से परे समाज के सभी वर्ग के लिये उपलब्ध होना चाहिये।’’

बता दें कि श्रीलंका में रविवार को हुए सिलसिलेवार बम धमाकों में 290 लोग मारे गये जबकि 500 से ज्यादा लोग घायल हुये हैं। इस घटना की दुनिया भर के देशों ने निंदा की है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मोदी ने बिहार में 14,000 करोड़ रुपये की राजमार्ग परियोजनाओं की आधारशिला रखी

    नयी दिल्ली : बिहार विधानसभा चुनाव 2020 से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर राज्य को बड़ी सौगात दी। प्रधानमंत्री ने सोमवार को आगे पढ़ें »

अल्पसंख्यकों काे अपनी ओर जोड़ने के लिए भाजपा ने बनायी रणनीति

  कोलकाता : भाजपा बंगाल में अपनी पैठ और मजबूत करने के लिए सदस्यता अभियान तो चला रही है, लेकिन जहां तक अल्पसंख्यकों की बात है आगे पढ़ें »

ऊपर