ई-सिगरेट पर रोक लगाने के लिए आज अध्यादेश जारी, इन मामलों में अलग-अलग सजा होगी

e cigrette

नई दिल्लीः भारत सरकार ने इलेक्ट्रानिक सिगरेट यानी ई- सिगरेट के उत्पादन, बिक्री, भंडारण, प्रचार, लाने-ले जाने और आयात- निर्यात को प्रतिबंधित करने के लिए बृहस्पतिवार को एक अध्यादेश जारी कर दिया है। इसका उल्लंघन करने पर जेल की सजा हो सकती है और जुर्माना लग सकता है।

इन मामलों में अलग-अलग सजा
अध्यादेश के अनुसार, पहली बार इसका उल्लंघन करने वालों को एक साल तक की सजा होगी और एक लाख रुपये तक का जुर्माना लगेगा। इस प्रतिबंध का लगातार उल्लंघन करने वालों को तीन साल तक की सजा हो सकती है या पांच लाख रुपये का जुर्माना भी हो सकता है या दोनों सजाएं साथ हो सकती हैं। ई-सिगरेट का भंडारण करने पर अब छह महीने तक की जेल की सजा हो सकती है और 50,000 रुपये का जुर्माना लग सकता है या जेल की सजा और जुर्माना दोनों देना पड़ सकता है।

निर्देश जारी
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार ने ई-सिगरेट और इस तरह के अन्य उत्पादों को प्रतिबंधित करने का फैसला किया है जिनसे लोगों के स्वास्थ्य को खास तौर पर युवाओं को खतरा है। यह अध्यादेश अधिकारियों को उन जगहों पर भी तलाशी की अनुमति देता है जहां इस तरह की तलाशी की इजाजत नहीं होती है। अधिकारी संपत्ति, ई-सिगरेट के भंडारण या उत्पादनकर्ता के रिकॉर्ड, आयातक-निर्यातक, लाने-ले जाने की व्यवस्था करने वाले की संपत्ति शिकायत के बाद कुर्क कर सकते हैं। इसमें यह भी कहा गया है कि ऐसे स्थानों के मालिक या उसे संभालने वाले, जहां ई-सिगरेट तैयार की जाती थी, बिना विलंब किए इस भंडारण को निकटतम संबंधित प्रशासन को सौंप दें।

सिगरेट उद्योग को बचाने के लिए जल्दबाजी में उठाया कदम- व्यापारिक वर्ग

ई-सिगरेट पर रोक लगाने के फैसले को लेकर व्यापारिक निकायों, उपयोगकर्ताओं और अन्य पक्षों ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि यह सरकार द्वारा जल्दबाजी में उठाया गया कठोर कदम है। उनका कहना है कि सरकार ने पारंपरिक सिगरेट उद्योग को बचाने के लिए जल्दबाजी में इस तरह का ‘कठोर’ कदम उठाया है।

सुरक्षित विकल्पों से वंचित किया गया- एवीआई
ई-सिगरेट उपयोगकर्ताओं का प्रतिनिधित्व करने वाली संस्था एसोसिएशन ऑफ वैपर्स इंडिया (एवीआई) ने कहा कि यह भारत में 11 करोड़ धूम्रपान करने वालों के लिए काला दिन है और उन्हें सुरक्षित विकल्पों से वंचित कर दिया गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

डेहरी ऑन सोन : बोलेरो और गैस टैंकर की टक्कर में दो की मौत, पांच गंभीर

डेहरी ऑन सोन : बिहार में रोहतास जिले के डेहरी के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी संजय कुमार ने बुधवार को यहां बताया कि स्थानीय सूअरा मोड़ आगे पढ़ें »

देश में अब ‘वंशवाद व परिवारवाद’ की राजनीति नहीं चलेगी : रघुवर दास

डालटनगंज : झारखंड के मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता रघुवर दास ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए बुधवार को कहा कि आगे पढ़ें »

ऊपर