इंदिरा पर राउत के बयान पर घमासानः फड़णवीस बोले- क्या अंडरवर्ल्ड की मदद से कांग्रेस चुनाव जीतती थी?

fadanvis

मुंबई : पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की गैंगस्टर करीम लाला से मुलाकात को लेकर शिवसेना नेता संजय राउत की टिप्पणी पर सियासी घमासान मच गया है। हालांकि मामले में विवाद बढ़ता देख संजय राउत ने अपना बयान वापस ले लिया है।
खबरों के अनुसार संजय राउत इस मामले में सफाई दी थी। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता देवेन्द्र फड़णवीस ने राउत के बयान को लेकर सवाल उठाया कि क्या कांग्रेस को मुंबई के अंडरवर्ल्ड से पैसा मिलता था? कांग्रेस इन माफियाओं के बल पर चुनाव जीता करती थी? फड़णवीस ने यह सवाल भी किया कि क्या उस समय यह राज्य में राजनीति के अपराधीकरण की शुरुआत थी और क्या कांग्रेस ने मुंबई में हमला करने वालों का साथ दिया था।

यह है मामला

शिवसेना नेता संजय राउत ने दावा किया था कि करीम लाला, मस्तान मिर्जा उर्फ हाजी मस्तान और वरदराजन मुदलियार मुंबई के शीर्ष माफिया सरगनाओं में थे जो 1960 से लेकर अस्सी के दशक तक सक्रिय रहे। उन्होंने कहा था कि वे (अंडरवर्ल्ड) तय करते थे कि मुंबई का पुलिस आयुक्त कौन बनेगा, मंत्रालय (सचिवालय) में कौन बैठेगा। पुणे में एक कार्यक्रम के दौरान दिए एक साक्षात्कार में राउत ने दावा किया था कि ‘जब हाजी मस्तान (अंडरवर्ल्ड डॉन) मंत्रालय आए थे, तो पूरा सचिवालय उन्हें देखने नीचे आ गया था। इंदिरा गांधी पायधुनी (दक्षिण मुंबई) में करीम लाला से मिला करती थी।

बयान वापस लिया

राउत ने अपने बयान को वापस लेते हुए कहा, ‘अगर किसी को लगता है कि मेरे बयान से इंदिरा गांधी की छवि को नुकसान पहुंचा या किसी की भावनाएं आहत हुईं, तो मैं उसे वापस लेता हूं।’ मैं इंदिरा, नेहरू और गांधी परिवार का हमेशा सम्मान करते हुए आया हूं।
कांग्रेस पार्टी ऐसे आरोपों पर चुप क्यों है?

कांग्रेस ने साधी चुप्पी

भाजपा नेता ने कांग्रेस नेतृत्व से राउत के बयान पर सफाई मांगते हुए कहा कि उनकी पार्टी ऐसे आरोपों पर चुप क्यों है। उन्होंने कहा, ‘संजय राउत ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बारे में एक बड़ा खुलासा किया। वह मुंबई क्यों आती थी और क्या कांग्रेस को मुंबई के अंडरवर्ल्ड से पैसा मिलता था? क्या यह राज्य में राजनीति के अपराधीकरण की शुरुआत थी?’ पूर्व मुख्यमंत्री ने यह भी पूछा कि क्या उन दिनों कांग्रेस को चुनाव जीतने के लिए बाहुबल की जरूरत थी?

गाधी परिवार को जवाब देना चाहिए

फड़णवीस ने राउत को यह कहते हुए उद्धृत किया कि अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा शकील और दाऊद इब्राहिम तय करते थे कि ‘मंत्रालय (राज्य सचिवालय) में नियुक्ति और पुलिस आयुक्त कौन होगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, शीर्ष नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को इन सवालों के जवाब देने चाहिए। फड़णवीस ने कहा कि ‘उनकी शीर्ष नेता पर ऐसे आरोप लगने के बाद भी कांग्रेस के नेतागण चुप क्यों हैं। राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता ने पूछा, ‘क्या कांग्रेस ने मुंबई हमलों का समर्थन किया? कांग्रेस इस पर सफाई क्यों नहीं दे रही?’

शेयर करें

मुख्य समाचार

ओलंपिक तैयारियों के लिये नये विदशी कोच की उम्मीद : चिराग-सात्विक

नयी दिल्ली : भारत के चिराग शेट्टी और सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी की पुरूष युगल जोड़ी इंडोनेशिया के फ्लांडी लिम्पेले के अचानक जाने के बाद अपनी ओलंपिक आगे पढ़ें »

वर्ल्ड कप 2011 : फाइनल में मैंने ही धोनी को ऊपर आने के लिए कहा था – सचिन

नयी दिल्‍ली : पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने 2011 वनडे वर्ल्ड कप के जीत के क्षण को याद किया। सचिन ने कहा कि श्रीलंका आगे पढ़ें »

लॉकडाउन के बीच घर में ही टेनिस खेल रहे हैं दिग्गज खिलाड़ी 

फीफा ने टोक्यो ओलंपिक के लिए फुटबॉलरों की आयु सीमा बढ़ाई, अब 24 साल के खिलाड़ी भी खेल सकेंगे

टेस्ट स्पिनर स्टीफन ओकीफी ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट से संन्यास लिया

कोरोना : पीवी सिंधू 3 वर्ष तक रह सकती हैं वर्ल्ड चैंपियन

डोपिंग : थाईलैंड और मलेशिया के भारोत्तोलकों को टोक्यो ओलम्पिक में भाग लेने से प्रतिबंधित किया गया

कोरोना : बुजुर्गों और बच्चों को स्वच्छ खाना उपलब्ध कराएगी आईटीसी

स्‍टेडियम की असली ताकत उसमें मौजूद दर्शक होते है : विराट कोहली

पीएम-केयर्स फंड में स्टील कंपनियों ने 267.55 करोड़ रुपये दिए, सुपरमार्ट्स ने 100 करोड़ रुपये दिए

ऊपर