आम्रपाली समूह कल तक दे धोनी से जुड़े सभी लेन-देन की जानकारी : शीर्ष न्यायालय

नयी दिल्ली : शीर्ष न्यायालय ने मंगलवार को भारतीय क्रिकेटर महेन्द्र सिंह धोनी द्वारा दायर याचिका की सुनवाई करते हुये आम्रपाली समूह को बुधवार तक धोनी के साथ किये गये लेन-देन की जानकारी देने का निर्देश दिया है। धोनी ने गत दिनों आम्रपाली समूह की एक परियोजना के तहत बुक किये गये पेंटहाउस का मालिकाना हक प्राप्त करने के लिये उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था।

20 लाख रुपये का भुगतान किया

धोनी ने शीर्ष अदालत द्वारा नियुक्त फोरेंसिक ऑडिटर की ओर से नोटिस मिलने के बाद अपने वकील शेखर कुमार द्वारा दायर आवेदन में कहा था कि ‘‘ यह आवेदन आवेदक (धोनी) द्वारा अपने अधिकारों की रक्षा, मालिकाना हक और पेंटहाउस अपार्टमेंट का कब्जा पाने के लिए दायर किया गया है, जो आम्रपाली सफायर-1 में स्थित है और जिसे 31 अगस्त, 2009 को एक समझौते के तहत उन्हें बेचे जाने पर सहमति हुई थी।’’ धोनी ने कहा था कि उन्होंने सम्पत्ति के लिए 20 लाख रुपये अदा किये हैं लेकिन अभी तक पेंटहाउस का केवल कुछ ही काम पूरा हुआ है और उन्हें उसका कब्जा भी नहीं दिया गया।

दिल्ली पुलिस जांच करेगी

वहीं शीर्ष न्यायालय ने ग्राहकों के पैसे के दुरुपयोग मामले में दायर की गई ऑडिट रिपोर्ट स्वीकार कर ली है। साथ ही न्यायालय ने दिल्ली पुलिस को आम्रपाली के प्रमोटर्स और निदेशकों के खिलाफ रिपोर्ट के आधार पर जांच करने का निर्देश दिया है।

बता दें कि धोनी ने विवादों में घिरे आम्रपाली समूह की एक परियोजना के अंतर्गत 10 साल पहले 5,500 वर्ग फुट का पेंटहाउस बुक किया था। लंबा समय बीत जाने के बाद धोनी ने न्यायालय का रुख किया था। उन्होंने दायर हलफनामे में कहा है कि अन्य खरीदारों और लेनदारों की तरह आम्रपाली समूह द्वारा उसे भी ठगा गया है।

गौरतलब है कि हलफनामे पर सम्पत्ति की बाजार में क्या कीमत है इसका जिक्र नहीं किया गया, जो अनुमानित तौर पर एक करोड़ रुपये से अधिक है। धोनी ने हलफनामा में बताया है कि आम्रपाली समूह को भगुतान की गई राशि मामूली नहीं है, समूह के ब्रैंड एंबेस्डर होने के कारण उन्हें पेंटहाउस कम दाम में दिया गया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर