आत्मनिर्भर भारत ही ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ की गारंटी : नकवी

रामपुर : केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि आत्म निर्भर भारत ही ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ की गारंटी है। नकवी ने सोमवार को यहां के नुमाइश ग्राउंड में केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम (पीएमजेवीके) के तहत 92 करोड़ रूपए की लागत से बनने वाले बहुउदेशीय ‘सांस्कृतिक सछ्वाव मंडप’ का शिलान्यास किया। इस मंडप में कौशल विकास की ट्रेनिंग, विभिन्न आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक गतिविधियां, कोचिंग, कोरोना जैसी आपदा में लोगों को राहत देने की व्यवस्था एवं खेल-कूद की गतिविधियां हो सकेंगी। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ‘समावेशी-सर्वस्पर्शी विकास’ के संकल्प से सराबोर सरकार है।

पहली बार पीएमजेवीके तहत इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण 

आजादी के बाद पहली बार सरकार ने प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम (पीएमजेवीके) के तहत देश भर के पिछड़े क्षेत्रों में आर्थिक-शैक्षिक-सामाजिक एवं रोजगारपरक गतिविधियों के लिए बड़ी संख्या में इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण कराया है। जिनमें 1512 नए स्कूल भवन, 22514 अतरिक्त क्लास रूम, 630 हॉस्टल, 152 आवासीय विद्यालय, 8820 स्मार्ट क्लास रूम (केंद्रीय विद्यालयों सहित), 32 कॉलेज, 94 आईटीआई, 13 पॉलिटेक्निक, 2 नवोदय विद्यालय, 403 सछ्वाव मंडप (बहुउद्देशीय सामुदायिक केंद्र), 598 मार्किट शेड, 2842 टॉयलेट एवं पेयजल सुविधाएँ, 135 कॉमन सर्विस सेंटर, 22 वर्किंग वीमेन हॉस्टल, 1717 विभिन्न स्वास्थ्य परियोजनाएं, 8 हुनर हब, 10 विभिन्न खेल सुविधाएँ, 5956 आंगनवाड़ी केंद्र आदि परियोजनाएं शामिल हैं।
एक लाख 84 हजार 980 विकास परियोजनाओं का निर्माण
नकवी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के समावेशी विकास के संकल्प का नतीजा है कि प्रदेश में अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय ने प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के तहत पिछले तीन वर्षों में तीन हजार करोड़ रूपए की लागत से एक लाख 84 हजार 980 विकास परियोजनाओं का निर्माण कराया है। जिनमें 282 अतिरिक्त क्लास रूम, क्लास रूम ब्लॉक्स, 707 आंगनवाड़ी केंद्र, 25 कॉमन सर्विस सेंटर, 31 बहुउद्देशीय सछ्वाव मंडप, 1,73,143 साइबर ग्राम, 3865 पेयजल परियोजनाएं, 27 स्वास्थ्य परियोजनाएं (जिनमें एक यूनानी, चार होमियोपैथी, तीन आयुर्वेद अस्पताल शामिल हैं), 20 डिग्री कॉलेज, 15 हॉस्टल, 39 आईटीआई, चार पॉलिटेक्निक, 226 कौशल विकास केंद्र, 340 स्कूल भवन, 666 शौचालय आदि का निर्माण कराया गया है।
13,276 विभिन्न विकास परियोजनाओं का निर्माण
उन्होंने कहा कि इसके अलावा रामपुर में भी प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम (पीएमजेवीके) के तहत 350 करोड़ रूपए से ज्यादा की लागत से 13,276 विभिन्न विकास परियोजनाओं का निर्माण कराया गया है, जिनमें दो कंप्यूटर लेबोरेटरी, दो सछ्वाव मंडप, छह कॉमन सर्विस सेंटर, 12974 साइबर ग्राम, 49 पेयजल सुविधाएँ (पानी की टंकी सहित), एक डिग्री कॉलेज, एक गर्ल्स हॉस्टल, 119 स्कूल भवन मुख्य रूप से शामिल हैं।
सफलता के कीर्तिमान स्थापित
नकवी ने कहा कि चाहे अर्थव्यवस्था हो, देश की सीमाओं की सुरक्षा हो, राष्ट्रीय सुरक्षा हो, हर मोर्चे पर मोदी सरकार ने सफलता के कीर्तिमान स्थापित किये हैं, ‘सम्मान के साथ सशक्तिकरण’ के संकल्प को साकार किया है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी की चुनौतियों से लड़ने में प्रधानमंत्री एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिस दूरदर्शिता के साथ काम किया है उसकी तारीफ दुनिया भर में हो रही है।
80 करोड़ लोगों को मुफ्त अन्न दिया गया
पिछले तीन महीनों में 80 करोड़ लोगों को 25 किलो गेंहूं-चावल और पांच किलो दाल मुफ्त मुहैया कराया गया है। आठ करोड़ परिवारों को तीन महीने का निशुल्क गैस सिलिंडर दिया गया है। 20 करोड़ महिलाओं के जन धन खाते में 1500 रूपए दिए गए हैं।
20 लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा
लॉकडाउन के बीच लगभग 44 करोड़ जरूरतमंदों को डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से विभिन्न योजनाओं का 60 हजार करोड़ रूपए से ज्यादा सीधे उनके बैंक अकाउंट में भेजा गया है। आठ करोड़ से ज्यादा किसानों को लगभग 17 हजार करोड़ रूपए की किसान सम्मान योजना की किश्त दी गई है। आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत 20 लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा ऐतिहासिक है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के सपनों का बंगाल बनाना, उन्हें होगी सच्ची श्रद्धांजलि : राज्यपाल धनखड़

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने सोमवार को कहा कि डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के सपनों का बंगाल बनाना उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि आगे पढ़ें »

कोलकाता के नजदीक सौर पेड़ से रौशन होंगी पगडंडियां, पार्क

कोलकाता : गैर परंपरागत ऊर्जा को बढ़ावा देने के प्रयास के तहत महानगर के बाहरी इलाके में सैटेलाइट शहर के तौर पर उभर रहे न्यू आगे पढ़ें »

ऊपर