आखिर क्यों कि आशा भोसले ने स्मृति ईरानी की प्रशंसा ?

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मंत्रिमंडल में दोबारा शामिल होने वाली स्मृति जुबिन ईरानी के प्रशंसकों में बॉलीवुड की प्रसिद्ध गायिका आशा भोसले का भी नाम जुड़ गया है। शपथ ग्रहण समारोह में पहुंची आशा भोसले ने अपने ट्वीटर अकाउन्ट पर ईरानी की प्रशंसा करते हुए लिखा है कि वह सबकी परवाह करती है इसलिए उन्हें जीत मिली है।
भीड़ में फंस गईं थी भोसले
राष्ट्रपति भवन में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में हजारों की संख्या में लोग पहुंचे थे। इन लोगों में खेल, राजनीति, कला, उद्योग, साहित्य से लेकर बॉलीवुड की हस्तियां शामिल थी। आशा भोसले को भी समारोह में शामिल होने के निमंत्रण पर वहां पहुंची थीं। समारोह समाप्त होने के बाद वह भीड़भाड़ में फंस गईं थी। इसी बीच स्मृति ईरानी की नजर आशा भोसले पर गई। उन्होंने भीड़ में फंसी आशा भोसले को सुरक्षित तरीके से निकलने में मदद की साथ ही उन्हें घर पहुंचाने का भी इंतजाम कर दिया।
उन्होंने मेरी परेशानी समझी
मोदी मंत्रिमंडल में मंत्री बनी स्मृति की मदद से प्रभावित होकर आशा भोसले ने ट्वीटर पर लिखा कि ”मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह के बाद वहां मौजूद भीड़ में फंस गई थी। स्मृति इरानी को छोड़कर वहां मौजूद किसी ने भी मेरी सहायता नहीं की। उन्होंने मेरी परेशानी समझी और सुरक्षित तरीके से घर पहुंचाने में मदद की। वह सबकी परवाह करती हैं और इसलिए उन्हें जीत मिली।”
भाजपा कार्यकर्ता को दिया था कंधा
मालूम हो कि यह पहली बार नहीं है जब स्मृति ईरानी हमेशा जरूरतमंदों की मदद के लिए आगे आती रहीं हैं। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का अभेद्य किला माने जाने वाली अमेठी संसदीय सीट से उन्होंने राहुल गांधी को करारी शिकस्त दी है। चुनाव के बाद उनका एक और चेहरा सामने आया जब उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के एक कार्यकर्ता की हत्या के बाद उसके शव को कंधा दिया था। यही कारण हैं कि उनके प्रशंसकों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैच फीट के लिए चार चरण में अभ्यास करेंगे भारतीय क्रिकेटर : कोच श्रीधर

नयी दिल्ली : भारत के क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर का कहना है कि देश के शीर्ष क्रिकेटरों के लिए चार चरण का अभ्यास कार्यक्रम तैयार आगे पढ़ें »

नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद करे आईसीसी : सैमी

नयी दिल्ली : वेस्टइंडीज के पूर्व टी-20 कप्तान डेरेन सैमी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) और अन्य क्रिकेट बोर्डों से नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद आगे पढ़ें »

ऊपर