आकाश विजयवर्गीय गए जेल,जमानत पर आज सुनवाई संभव

इंदौर : भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे और भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय को अपने समर्थकों के साथ मिलकर नगर निगम के कर्मचारियों की पिटाई के मामले में जेल भेज दिया गया है। वहीं आज उनकी जमानत की संभावना जताई जा रही है। मालूम हो कि बुधवार को उन्होंने अतिक्रमण हटाने गए नगर निगम कर्मचारियों के साथ मारपीट की थी। घटना के बाद निगमकर्मियों ने हड़ताल पर जाने की घमकी देते हुए उनके खिलाफ मामला भी दर्ज कराया था । इस घटना का एक वीडियो भी वायरल हो गया था । मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने विधायक को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया था।
जमानत याचिका पर सुनवाई होने की संभावना
आकाश विजयवर्गीय को नगर निगम कर्मचारियों के साथ मारपीट मामले में जेल भेजे जाने के बाद गुरुवार को सेशन कोर्ट में उनकी जमानत याचिका पर सुनवाई होने की संभावना है। इसी बीच आज सुबह से ही विधायक आकाश विजयवर्गीय के समर्थकों का जमावड़ा जिला जेल परिसर के बाहर जुटना शुरु हो गया था। किसी भी अप्रिय स्थिति से बचने के लिए जेल परिसर के बाहर अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किया गया है। इसके पहले कल रात विधायक आकाश विजयवर्गीय के समर्थक उनके लिये भोजन और नाश्ते का सामान लेकर जेल परिसर पहुंचे, लेकिन जिला जेल अधीक्षक ने सामान देने से इंकार कर दिया। पूरे मामले में जेल अधीक्षक स्वयं व्यवस्थाओं पर नजर रखे हुए हैं।
पुलिस ने किया बीच बचाव
वायरल वीडियो में आकाश विजयवर्गीय क्रिकेट के बल्ले से निगम कर्मचारी को पीटते हुए नजर आ रहे हैं। इस घटना के बाद इंदौर-3 विधानसभा क्षेत्र से विधायक आकाश विजयवर्गीय ने कहा कि ‘मैं बहुत गुुुस्‍से में था। मैंने क्या कर दिया, मुझे नहीं पाता।’ घटना के समय मौके पर मौजूद पुलिस बल ने विधायक और उनके समर्थकों के बीच से मारपीट के शिकार बने दो निगम कर्मचारियों को बीच बचाव कर सुरक्षित बाहर निकाला।
 विजयवर्गीय को 11 जुलाई तक जेल
निगमकर्मियों की पिटाई के आरोपी विधायक को पुलिस जब गिरफ्तार कर अदालत ले जा रही थी तो विजयवर्गीय के समर्थकों ने जमकर बबाल काटा। उन्होंने न्यायालय परिसर के पास एकत्र ‌‌‌होकर प्रदेश सरकार और पुलिस के खिलाफ नारे भी लगाए। विधायक समर्थकों के विरोध के बीच पुलिस ने ‌आकाश विजयवर्गीय को न्यायालय के सामने पेश किया।वहीं प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी गौरव गर्ग ने विधायक आकाश विजयवर्गीय को 11 जुलाई तक जेल भेज दिया था ।
आवेदन, निवेदन और फिर दनादन
वहीं इस घटना के बाद थाने पहुंचे आकाश के तेवर कम होने का नाम नहीं ले रहे थे। थाने में विधायक और निगमकर्मियों ने अपने-अपने पक्ष रखे। निगमकर्मियों पर भ्रष्टाचार और महिलाओं से बदतमीजी का आरोप लगाते हुए आकाश ने कहा कि यह तो शुरुआत है। हम भ्रष्टाचार और गुंडागर्दी को खत्म करके रहेंगे। आरोपी विधायक ने फिल्मी स्टाइल में कहा कि ”हमारा लाइन ऑफ एक्शन है- आवेदन, निवेदन और फिर दनादन।” उन्होंने कहा कि भ्रष्ट कर्मचारियों पर उनका बल्ला चलता रहेगा।
बता दें कि एम जी रोड थाना पुलिस ने इस मामले में विधायक आकाश सहित दस अन्य के खिलाफ सरकारी काम में बाधा डालने और अन्य आरोपों में विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया है।
गौरतलब है कि मारपीट किए जाने के बाद नगर निगम कर्मचारियों ने हड़ताल पर जाने की धमकी भी दी थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

PM Modi meets Abhijit Banerjee

नोबेल विजेता बनर्जी से मिले मोदी,मानवता को सशक्त बनाने का प्रयास सराहनीय

नई दिल्ली : अर्थशास्त्र में नोबेल जीतने वाले भारतीय अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुलाकात की, पीएम मोदी ने बताया आगे पढ़ें »

madhav

राम माधव ने अमेरिका को दी नसीहत, कहा- भारत कोई डंपिंग बाजार नहीं

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महासचिव राम माधव ने सोमवार को अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री कोंडोलिजा राइस के दिए गए बयान आगे पढ़ें »

ऊपर