अलवर गैंगरेप मामला: चौथा आरोपी गिरफ्तार, सामने आई पुलिस की संवेदनहीनता

नई ‌दिल्लीः राजस्थान के अलवर जिले के थानागाजी इलाके में पांच आरोपियों द्वारा एक महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म और वीडियो वायरल मामले में पुलिस ने चौथे आरोपी को भी गिरफ्तार कर लिया है। वहीं इस मामले में परिवार वालों का आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में संवेदनहीनता ‌दिखाई है।

पुलिस ने बताया कि आरोपी की पहचान महेश गुर्जर के रूप में की गई है। आरोपी ने महिला के साथ दुष्कर्म किया था। उन्होंने बताया कि इस गिरफ्तारी के साथ पांच आरोपियों में से चार आरोपी को गिरफ्तार किया जा चुका है। तीन दुष्कर्म करने वाले आरोपी और एक वीडियो बनाकर वायरल करने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया जा चुका है।

सामने आई पुलिस की संवेदनहीनता

26 अप्रैल को हुई इस घटना पर पुलिस ने पांच दिन तक शिकायत दर्ज नहीं की। यही नहीं 1 मई को जब 20 साल की पीड़िता का परिवार अलवर एसपी राजीव पचार के कार्यालय पहुंचकर शिकायत दर्ज करने की गुहार लगा रहा था, उस समय महिला के पति के फोन पर लगातार एक आरोपी की कॉल आ रही थी। इसके बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। यह देखकर परिवार को अपने स्तर पर मामले की जांच करनी पड़ी और आरोपी के नाम पुलिस को बताए। मामले में अब तक 4 आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

एसपी को डाला एपीओ सूची में

एसपी पर आरोप है कि उन्होंने उन फोन कॉल के आधार पर दुष्कर्म करने वालों और वसूली करने वालों को ट्रैक नहीं किया। इसी के चलते उन्हें एपीओ (प्रतीक्षा सूची में डालना) कर दिया गया है। पीड़िता के पिता ने कहा कि 26 अप्रैल को गैंगरेप के बाद भी पीड़िता की परेशानी कम नहीं हुई बल्कि पुलिसकर्मियों की संवेदनहीनता के चलते और बढ़ गई।

एसपी ने दी सफाई

पीड़ित परिवार ने बताया, अगले दिन हम अलवर एसपी राजीव पचार के पास गए और उन्होंने भी हमारी शिकायत को गंभीरता से नहीं लिया जबकि एक आरोपी उस वक्त लगातार कॉल भी कर रहा था। पुलिस अधिकारी एक ही रट लगाए थे कि वे जल्द ही आरोपियों को पकड़ लेंगे और हमें सलाह दे रहे थे कि घटना के बारे में किसी को न बताएं।’ जबकि एसपी ने दावा किया कि उन्होंने सभी प्रक्रियाओं का पालन किया।

आरोपियों के नाम बताने पर भी नहीं हुई कार्रवाई

पीड़िता के देवर ने बताया, अपने संपर्क के जरिए मैंने कुछ अपराधियों की पहचान की और पुलिस को उनकी जानकारी भी दी लेकिन वे हाथ पर हाथ धरे बैठे ही रहे। 30 अप्रैल तक पांचों आरोपी खुलेआम घूमते रहे और फिर फरार हो गए। यहां तक कि इसके बाद भी पुलिस उनके परिवार से पूछताछ कर सकती थी लेकिन कुछ नहीं किया।’

कोर्ट में अहम कागजात लाना भूल गई पुलिस

पीड़ित परिवार का आरोप है कि पुलिस ने पूरी जांच में इतनी लापरवाही बरती और उसी का नतीजा था कि इतने घिनौने अपराध को अंजाम देने के बाद भी आरोपी खुलेआम घूमते रहे। राज्यभर में मामले के खिलाफ प्रदर्शन शुरू हो गए लेकिन पुलिस की कार्रवाई में कोई तेजी नहीं आई। जब पीड़िता बुधवार को मैजिस्ट्रेट के सामने अपना बयान दर्ज कराने पहुंची तो पुलिसकर्मी कुछ बेहद जरूरी कागजात लाना भूल गए, इस वजह से पीड़िता को दोबारा बयान दर्ज कराने जाना पड़ेगा। परिवार न्याय की आस में इधर-उधर भटक रहा है।

गौरतलब है कि 26 अप्रैल को महिला मोटरसाइकिल पर अपने पति के साथ जा रही थी तभी उसके पति के सामने ही पांचों आरोपियों ने सामूहिक दुष्कर्म कर उसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया था। इस संबंध में दो मई को एफआईआर दर्ज की गई थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

जम्मू में आतंकवादी हमला एक नागरिक घायल

जम्मू : दक्षिण कश्मीर के कुलगाम इलाके के यारीपोरा बाजार में आतंकवादियों द्वारा पुलिस पार्टी पर हमला करने के बाद एक नागरिक घायल हो गया। आगे पढ़ें »

तब्लीगी से जुड़े 960 विदेशियों के 10 साल तक भारत आने पर लगा प्रतिबंध : सूत्र

नयी दिल्ली : सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार तब्लीगी जमात की गतिविधियों में शामिल 960 विदेशियों के भारत आने पर 10 साल तक सरकार आगे पढ़ें »

ऊपर