नौसेना के टोही विमान और इसरो के सैटेलाइट लापता एएन-32 की तलाश में जुटे

नयी दिल्ली :  भारतीय वायुसेना चीन की सीमा के करीब से लापता हुए एएन-32 विमान की खोज में जुटी हुई है। विमान की तलाश को चलाए जा रहे अभियान में नौसेना के टोही विमान और इसरो के सैटेलाइट की भी मदद ली जा रही है। साथ ही इस काम के लिए ग्राउंड फोर्स की भी मदद ली जा रही है। वायुसेना ने ट्वीट में कहा था कि विमान एएन-32 की तलाश में जुटी टीमों से क्रैश की संभावित जगहों के बारे में कुछ रिपोर्ट मिली हैं। इन लोकेशन पर हेलिकॉप्टर भेजे गए हैं लेकिन अब तक विमान का मलबा नहीं दिखा है। विमान में चालक दल के सदस्यों समेत कुल 13 लोग सवार थे।

तकनीक बेहद कारगर हो सकती है
वहीं नौसेना के प्रवक्ता डी के शर्मा ने कहा है कि लापता विमान की तलाश के लिए दोपहर 1 बजे पी-8आई विमानों ने तमिलनाडु के अराकोनम में तैनात आईएनएस राजाली से उड़ान भरी है। उन्होंने बताया कि तलाशी अभियान में भेजा गया विमान पी-8 आई इलेक्ट्रो ऑप्टिकल और इन्फ्रारेड सेंसर्स से लैस है। पी-8 आई में अत्यंत शक्तिशाली सिंथेटिक अपर्चर राडार (एसएआर) लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि एएन-32 की तलाश के दौरान ये तकनीक बेहद कारगर हो सकती है।

नहीं हो पाया विमान से संपर्क
एएन-32 ने असम के जोरहाट एयरबेस से दोपहर बाद 12.25 बजे उड़ान भरी थी। वायुसेना का यह विमान अरुणाचल प्रदेश के वेस्ट सियांग जिले में स्थित मेचुका एडवांस लैंडिंग ग्राउंड जा रहा था। रास्ते में अपराह्न 1 बजे के करीब संबद्ध एजेंसियों से विमान का संपर्क टूट गया। उसके बाद से विमान से कोई संपर्क नहीं हो पाया है।
शुरू हुआ विमान तलाशी अभियान
विमान के गंतव्य तक नहीं पहुंचने पर वायुसेना ने जरूरी कार्रवाई शुरू कर दी है। सूत्रों के अनुसार, विमान में चालक दल के 8 सदस्य और 5 अन्य यात्री सवार थे। विमान की तलाश शुरू कर दी गयी है। खराब मौसम और दुर्गम ईलाका होने के कारण तलाशी अभियान में दिक्कत आ रही है। एएन-32 की तलाश के लिए सुखोई 30 और विशेष ऑपरेशन विमान सी-130 को लगाया गया है।
रक्षा मंत्री ने सुरक्षित होने की प्रार्थना
विमान एएन-32 के लापता होने की जानकारी मिलते ही रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वायुसेना के उप प्रमुख बात की। साथ ही उन्होंने तलाशी अभियान के बारे में भी जानकारी ली। रक्षा मंत्री ने ट्वीटर पर लिखा, “कुछ घंटों से लापता आईएफ के एएन-32 एयरक्राफ्ट के बारे में एयर फोर्स के वाइस चीफ एयर मार्शल राकेश सिंह भदौरिया से बात की है। उन्होंने लापता विमान का पता लगाने के लिए इंडियन एयर फोर्स की तरफ से उठाए गए कदमों की जानकारी दी। मैं विमान में सवार सभी यात्रियों की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता हूं।”

मालूम हो कि वायुसेना के एएन-32 विमान को रूस ने डिजाइन किया है। यह एक ट्विन इंजन वाला विमान है। साल 2016 के जुलाई में ऐसा ही एक विमान चेन्नई से पोर्टब्लेयर जाते समय दुर्घटना का शिकार हो गया था, जिसमें सवार 29 लोगों की जान चली गई थी।

गौरतलब है कि वर्ष 1980 में सोवियत संघ के विमान एएन-32 को भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था। पिछले चार दशक से इस विमान का व्यापक तौर पर इस्तेमाल हो रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बागवानी से दुरुस्त रहता है दिल और सेहत

नई दिल्ली : विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार अच्छी सेहत का मतलब इमोशनल पॉजिटिविटी, कम्यूनिटी की फीलिंग और खुशहाली से भी है। अगर आपको प्रकृति आगे पढ़ें »

Daya Ben

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में ‘दया बेन’ की वापसी,तस्वीर हुई वायरल

मुंबई : तारक मेहता का उल्टा चश्मा के फैन्स के लिए खुशखबरी है। खबरों की मानें तो दयाबेन शो में वापसी करने जा रही हैं। आगे पढ़ें »

ऊपर