अंतिम राज्यपाल और उपराज्यपाल को अचानक हटाना एक अजीब संयोग: उमर

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने गुरुवार को कहा कि प्रदेश के अंतिम राज्यपाल और संघशासित प्रदेश के पहले उपराज्यपाल को अचानक हटाना एक अजीब संयोग है। नेशनल कांफ्रेंस पार्टी के उपाध्यक्ष ने ट्वीट कर कहा, ‘एक बड़े अजीब संयोग में प्रदेश के अंतिम राज्यपाल और संघ शासित प्रदेश के पहले उप राज्यपाल को उस समय हटाया गया जब इसकी सबसे कम उम्मीद थी।’
निर्णय विपरीत
एक अन्य ट्वीट में अब्दुल्ला ने हैरानी जताते हुए कहा, ‘कल रात तक उप राज्यपाल पद के लिए दो अलग-अलग नाम सामने आ रहे थे और भारतीय जनता पार्टी के नेता मनोज सिन्हा का नाम कहीं भी नहीं था। आप केंद्र की इस सरकार पर हमेशा यह तो विश्वास कर सकते हैं कि सूत्रों के अनुसार चाहे जो कुछ भी कयास लगाए जाए लेकिन निर्णय उसके विपरीत ही आएगा। उल्लेखनीय है कि जम्मू-कश्मीर के पहले उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू ने बुधवार को उस समय इस्तीफा दिया जब उनकी नयी दिल्ली में मीडियाकर्मियों के साथ मुलाकात और अन्य नियोजित कार्यक्रम थे। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद द्वारा जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री मनोज सिन्हा को जम्मू-कश्मीर का नया उपराज्यपाल नियुक्त किये जाने के बाद हालांकि मुर्मू के सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए गए।
मुर्मू को अन्य जिम्मेदारी एवं पद दिए जाने की संभावना
मुर्मू ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल पद से इस्तीफा दे दिया था। सूत्रों के मुताबिक मुर्मू को दिल्ली में कोई अन्य जिम्मेदारी एवं पद दिए जाने की संभावना है। इससे पहले 23 अगस्त 2018 को सत्य पाल मलिक को प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया गया था और उन्हें 30 अक्टूबर 2019 को हटा दिया गया जबकि उनकी उस दौरान कई बैठकें पहले से आयोजित थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

केएल राहुल दिखाए कि वह जिम्मेदारी संभाल सकते हैं : गावस्कर

नई दिल्ली : जब महेंद्र सिंह धोनी टीम इंडिया के कप्तान थे, यह साफ था कि कप्तानी की दौड़ में अगला शख्स कौन था। विराट आगे पढ़ें »

पायल से जुड़ा मीटू केस : अनुराग के समर्थन में आयीं उनकी पूर्व पत्नी और कई अन्य कलाकार

मुंबई : फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप पर अभिनेत्री पायल घोष के यौन उत्पीड़न के आरोप के बाद उनकी पूर्व पत्नी और फिल्म एडिटर आरती बजाज, आगे पढ़ें »

ऊपर