शाहीन बाग में कोई प्रदर्शनकारी मर क्यों नहीं रहा है? : दिलीप घोष

dilip

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष मंगलवार अपने ही बयान से विवाद में घिर गए। घोष ने दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन पर ये पूछा था कि शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों को कुछ क्यों नहीं हो रहा जबकि वे दिल्ली की भीषण ठंड में खुले में प्रदर्शन कर हे हैं वहीं बंगाल में सीएए और प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी एनआरसी से घबराए लोग खुदकुशी कर रहे हैं। घोष ने इस बात पर हैरानी जताई कि महिलाओं और बच्चों समेत प्रदर्शन में शामिल लोग बीमार क्यों नहीं पड़ रहे या फिर मर क्यों नहीं रहे हैं जबकि वे हफ्तों से खुले आसमान के नीचे प्रदर्शन कर रहे हैं।

इस प्रदर्शन के लिए रकम कहां से आ रही है

इस दौरान भाजपा सांसद ने यह भी जानना चाहा कि आखिरकार इस प्रदर्शन के लिए रकम कहां से आ रही है। दक्षिणी दिल्ली के शाहीन बाग में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ सैकड़ों महिलाएं प्रदर्शन कर रही हैं। मालूम हो कि शाहीन बाग में करीब एक महीने से भी ज्यादा समय से प्रदर्शन चल रहा है।

क्या उन्होंने कोई अमृत पी लिया है

घोष ने कहा कि ‘हमें पता चला है कि सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रही महिलाएं और बच्चे दिल्ली की सर्द रातों में खुले आसमान के नीचे बैठे हैं। मैं हैरान हूं कि उनमें से कोई बीमार क्यों नहीं हुआ? उन्हें कुछ हुआ क्यों नहीं? एक भी प्रदर्शनकारी की मौत क्यों नहीं हुई?’ साथ ही उन्होंने कहा कि ‘यह बेहद चौंकाने वाला है। क्या उन्होंने कोई अमृत पी लिया है कि उन्हें कुछ हो नहीं रहा है। लेकिन बंगाल में कुछ लोगों द्वारा घबराहट में खुदकुशी करने का दावा किया जा रहा है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

किराना सामानों से भी घर में आ सकते हैं वायरस, बरतें सावधानी

नई दिल्ली : कोरोना के दौर पूरा देश लॉकडाउन पर है, लेकिन कुछ जगहें ऐसी हैं, जहाँ जाए बिना काम नहीं चलता। वो है किराना आगे पढ़ें »

कोरोना रोगियों के प्लाज्मा से होगा कोरोना रोगियों का इलाज, ट्रायल शुरू

नई दिल्ली : केरल सरकार की ओर से गठित एक मेडिकल टास्क फ़ोर्स ने कोरोना महामारी से निपटने के लिए प्लाज़्मा थेरेपी का इस्तेमाल कारगर आगे पढ़ें »

ऊपर