पाकिस्तान : हिंदू लड़कियों के जबरन धर्मपरिवर्तन के खिलाफ कराची में बड़ा प्रदर्शन

karachi

इस्लामाबाद/नई दिल्ली : पाकिस्तान के कराची में रविवार को जबरन धर्मांतरण के खिलाफ जोरदार विरोध प्रदर्शन किया गया। कराची प्रेस क्लब के सामने एकत्रित हुए लोगों ने देश में अल्पसंख्यक समुदाय की लड़कियों के जबरन धर्मांतरण के खिलाफ आवाज उठाई। साथ ही इन प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षा व्यवस्‍था पर सवाल खड़े करते हुए आरोप लगाया कि पुलिस जबरन धर्मपरिवर्तन करवाने वालों को गिरफ्तार नहीं करती बल्कि जो ह‌िंदू इसके विरोध में प्रदर्शन करते हैं, उन्हें ही राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के झूठे आरोप में गिरफ्तार कर रही है।

15 साल की महक का किया गया अपहरण

एक रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान में 26 जनवरी को कराची प्रेस क्लब के सामने ह‌िंदू समुदाय के लोगों ने देश में अल्पसंख्यक लड़कियों के जबरन धर्म परिवर्तन के खिलाफ जोरदार विरोध प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में बड़ी तादात में सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भी हिस्सा लिया। रिपोर्ट के अनुसार देश में आए दिन अल्पसंख्यक लड़कियों का अपहरण कर उनका जबरन धर्मपरिवर्तन कराया जाता है। ऐसी ही एक घटना हाल ही में महक कुमारी नाम की लड़की के साथ घटी जब 16 जनवरी को उसका अपहरण कर लिया गया। 15 साल की हिंदू लड़की महक जैकोबाबाद की रहने वाली थी।

मुस्लिम समुदाय के प्रभावशाली शख्स ने जबरन की शादी

कराची में जबरन धर्मपरिवर्तन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में शामिल एक व्यक्ति ने महक के बारे में बात करते हुए कहा, “महक के परिवार का कहना है कि एक मुस्लिम समुदाय के प्रभावशाली शख्स ने उसका अपहरण कराया और शिकारपुर ले जाकर वहां के दरगाह अमरोत शरीफ में उसे इस्लाम धर्म अपनाने के लिए मजबूर किया। इसके बाद उस शख्स ने महक से निकाह कर लिया।”

पुलिस का रवैया दुर्भाग्यपूर्ण

प्रदर्शनकारियों के अनुसार जिन लड़कियों का जबरन धर्मांतरण किया जा रहा है, वे गैर मुस्लिम समुदाय से ताल्लुक रखती हैं और यही वजह है कि पुलिस सिंध बाल विवाह निरोधक कानून के तहत गुनहगारों के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाती। प्रदर्शन में शामिल सामाजिक कार्यकर्ता बिरमा जेसरानी ने कहा, “अधिकारियों का यह रवैया दुर्भाग्यपूर्ण है, उन्होंने इस मामले में अब तक गंभीरता नहीं दिखाई है।” उन्होंने आगे कहा कि अपहरण की गई हिंदू लड़कियों को ढूंढने और अल्पसंख्यक समुदाय को सुरक्षा देने के बजाय पुलिस ने हिंदू समुदाय के लोगों का ही उत्पीड़न किया है।

विरो‌धियों के परिवार को किया जाता है परेशान

इसके अलावा विरोध प्रदर्शन के आयोजक राज कुमार ने बताया, “जबरन धर्म परिवर्तन का विरोध करने वाले चार हिंदू लोगों को पुलिस ने राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के झूठे आरोप में गिरफ्तार किया है। इसके साथ ही पुलिस उनके घरों पर छापेमारी कर रही है। इस तरह उनके पूरे परिवार को परेशान किया जा रहा है।”

प्रदर्शनकारियों ने की नारेबाजी

अल्पसंख्यक समुदाय के साथ अत्याचारों के खिलाफ प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी की और बैनर लहराए। इन बैनरों पर ‘अपहरण के बाद हिंदू लड़कियों के जबरन धर्मांतरण को रोकें’, ‘जबरन धर्म परिवर्तन एक इस्लामिक विचारधारा नहीं है’ और ‘कृपया हमें शांति से जीने दें’ आदि नारे लिखे हुए थे। इससे पहले 5 जुलाई 2019 को भी कराची प्रेस क्लब के बाहर इस तरह का बड़ा विरोध प्रदर्शन आयोजित किया गया था। यह प्रदर्शन पाकिस्तान हिंदू काउंसिल (पीएचसी) द्वारा आयोजित किया गया था जिसमें हजारों लोग शामिल हुए थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

courty

दिल्ली हिंसा : दिल्ली हाईकोर्ट की सख्‍त टिप्पणी, एक और 1984 नहीं होने देंगे

नई दिल्ली : दिल्ली में हो रही हिंसा को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट ने बेहद सख्त टिप्पणी की है। दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा, हिंसा आगे पढ़ें »

america

ट्रंप की यात्रा भारत के साथ रणनीतिक संबंधों को प्रगाढ़ करने पर केंद्रित थी : व्हाइट हाउस

वाशिंगटन : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा दोनों देशों के बीच रणनीतिक संबंधों को मजबूत करने पर केन्द्रित थी। व्हाइट हाउस आगे पढ़ें »

ऊपर