दिल्ली में सीएए विरोध के नाम पर हिंसा-आगजनी, एक पुलिसकर्मी की गोली मारकर हत्या

delhis

नई दिल्ली : उत्तर-पूर्व दिल्ली के मौजपुर इलाके में सोमवार को लगातार दूसरे दिन नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने उत्पात मचाया। सोमवार दोपहर हुई हिंसा के दौरान उपद्रवियों ने कई गाड़ियों के साथ ही मौजपुर में एक गोदाम में आग लगा दी। वहीं, भजनपुरा में एक पेट्रोल पम्प को आग के हवाले कर दिया। इस दौरान गोकुलपुरी इलाके में प्रदर्शकारियों की तरफ से की गई फायरिंग में हेड कांस्टेबल रतन लाल की मौत हुई है। इसके अलावा प्रदर्शकारियों की ओर की जा रही पत्थरबाजी में शहादरा के डीसीपी अमित शर्मा  सहित कई पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं।

उपद्रवियों ने कई घरों को भी जला दिया

उपद्रवी बड़ी बेरहमी के साथ आम लोगों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। उपद्रवियों ने लोगों के घरों पर पत्थर फेंके गए तथा कई घरों को जला दिया। विरोध के नाम पर ये लोग इतने आक्रोशित हो गए हैं कि इन्हें किसी की जान लेने में भी गुरेज नहीं हो रहा है। फिलहाल इलाके में तनाव बना हुआ है।

10 इलाकों में धारा 144 लागू, मौजपुर और बाबरपुर मेट्रो स्टेशन बंद

फिलहाल इलाके में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। साथ ही मौजपुर, करदमपुरी, चांद बाग, यमुना विहार, भजनपुरा और दयालपुर समेत उत्तर पूर्व दिल्ली के 10 इलाकों में अनि‌श्चितकाल के लिए धारा-144 लागू कर दी गई है। वहीं, डीएमआरसी द्वारा मौजपुर और बाबरपुर मेट्रो स्टेशन को बंद कर दिया गया है। दिल्ली पुलिस ने लोगों से अपने घरों में रहने और अफवाहों से बचने के लिए कहा है।

उपराज्यपाल ने दिए निर्देश

इस हिंसा को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट के जरिए चिंता जताई है। उन्होंने लिखा, ‘दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों से हिंसा की खबरें चिंताजनक हैं।’ इस बारे में केजरीवाल ने फोन पर उपराज्यपाल अनिल बैजल और गृह मंत्री अमित शाह के साथ चर्चा भी की। वहीं, उपराज्यपाल ने दिल्ली पुलिस और पुलिस आयुक्त को उत्तर पूर्वी दिल्ली में कानून व्यवस्था बनाए रखने का निर्देश दिया है और सभी से आग्रह किया है कि वे शांति और सद्भाव बनाए रखें और संयम बरतें।

रविवार को हिंसा के बाद भाजपा नेता ने बुलाई थी बैठक

गौरतलब है कि सीएए के खिलाफ बड़ी संख्या में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने रविवार को सड़क अवरुद्ध कर दी थी, जिसके बाद जाफराबाद में सीएए के समर्थकों और विरोधियों के बीच कल शाम को झड़प शुरू हो गई थी। मौजपुर में भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने एक सभा बुलाई, जिसमें मांग की गई थी कि पुलिस तीन दिन के भीतर सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों को हटाए, इसके तुरंत बाद दो समूहों के सदस्यों ने एकदूसरे पर पथराव किया, जिसके कारण पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मूडीज इन्वेस्टर्स ने बैंकिंग सेक्टर के लिए अनुमान स्थिर से नेगेटिव किया

नई दिल्ली : देश में कोरोना के प्रसार को देखते हुए मूडीज इन्वेस्टर्स ने भारतीय बैंकिंग सिस्टम के लिए अपने अनुमान को स्थिर से बदल आगे पढ़ें »

पीएम केयर्स फंड में दो साल का वेतन देंगे गौतम गंभीर

नयी दिल्ली : क्रिकेटर से राजनीतिज्ञ बने गौतम गंभीर ने गुरुवार को कोविड-19 महामारी से बचाव के लिये सांसद के तौर पर अपना दो साल आगे पढ़ें »

ऊपर