सुनवाई के दौरान रोते हुए विजय माल्या ने कहा-मूल रकम देने को हूं तैयार

malya

लंदन : भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या ने गुरुवार को ब्रिटिश उच्च न्यायालय में हाथ जोड़कर गिड़गिड़ाते हुए भारतीय बैंकों से अपना पैसा वापस लेने की अपील की है। 64 साल के माल्या ने न्यायालय में रोते हुए कहा कि भारतीय बैंक तुरंत पैसे वापस ले ले। रॉयल कोर्ट ऑफ जस्टिस के बाहर माल्या ने कहा, ‘केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) मेरे साथ ठीक नहीं कर रहे हैं। मैं कर्ज की मूल रकम का 100 प्रतिशत वापस करने को राजी हूं।’ बता दें कि भगौड़े विजय माल्या पर भारतीय बैंकों के 9 हजार करोड़ की धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है।

‘ईडी ने मेरी संपत्तियां जब्त कर लीं’

माल्या ने कहा, ‘बैंकों की शिकायत मिलने पर ईडी ने मेरी संपत्तियां जब्त कर लीं। बैंकों ने शिकायत की थी कि मैं भुगतान नहीं कर रहा हूं। मैंने पीएमएलए (मनी लान्ड्रिंग निरोधक कानून) के तहत ऐसा कोई काम नहीं किया है कि मेरी संपत्ति जब्त कर ली जाए।’ माल्या के खिलाफ दर्ज आरोपों की जांच ईडी और सीबीआई द्वारा की जा रही है।

किंगफिशर एयरलाइन आर्थिक दुर्भाग्य का शिकार हुई

माल्या के वकील ने दावे के साथ उसके खिलाफ भारत में धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों को अनुचित बताया था लेकिन भारत सरकार की ओर से पेश क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस (सीपीए) ने वकील के इन दावों को गलत ठहराया। सीपीए की ओर से कहा गया कि माल्या इसलिए ब्रिटेन आया क्योंकि वह भारतीय बैंकों से लिए कर्ज का भुगतान करने से बचना चाहता था। साथ ही माल्या के खिलाफ 32 हजार पन्नों के सबूत पेश किए जा चुके हैं। वहीं, बचाव पक्ष ने किंगफिशर एयरलाइन का मुद्दा उठाते हुए कहा कि अन्य भारतीय एयरलाइनों की तरह यह भी आर्थिक दुर्भाग्य का शिकार हुई है। उल्लेखनीय है कि इस मामले पर लार्ड जस्टिस स्टेफन ईरविन और जस्टिस इलिसाबेथ लाइंग की बेंच ने सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया है। फिलहाल प्रत्यर्पण वारंट को लेकर विजय माल्या जमानत पर है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 2752 नये आये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के पिछले 24 घंटे में 2752 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

राममंदिर के शिलान्यास के अवसर पर अपने घरों में दीपावाली मनाएं : रावत

देहरादून : उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पांच अगस्त को अयोध्या में राममंदिर निर्माण हेतु भूमिपूजन के अवसर पर प्रदेश की जनता से आगे पढ़ें »

ऊपर