शिवसेना के साथ गठबंधन को तैयार हुई सोनिया गांधी

नई दिल्ली : कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए शिवसेना के साथ गठबंधन को तैयार हो गई है। बताया जा रहा है कि एनसीपी प्रमुख शरद पवार के साथ बैठक के बाद सोनिया ने शिवसेना के साथ गठबंधन को हरी झंडी दिखाई है। एनसीपी के सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है। मालूम हो कि सोनिया गांधी ने बुधवार को पवार के साथ दिल्ली में मुलाकात की। जिसके बाद यह बात सामने आई है।

चुनाव परिणाम के बाद टूटा भाजपा और शिवसेना का साथ

महाराष्ट्र में चुनाव के नतीजे आने बाद से ही सरकार गठन पर सस्पेंस बरकरार है। बता दें कि इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और शिवसेना ने साथ लड़ा था, लेकिन मुख्यमंत्री पद को लेकर दोनों पार्टियों के बीच गठबंधन टूट गया। शिवसेना चाहती थी कि महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री शिवसेना से बने, लेकिन भाजपा इसके लिए तैयार नहीं थी। भाजपा हर हाल में देवेंद्र फड़णवीस को ही मुख्यमंत्री बनाना चाहती थी, जिस पर शिवसेना ने इनकार कर दिया। वहीं राज्यपाल ने भाजपा को सरकार गठन का न्योता दिया था, पर उसने यह कहकर इसे ठुकरा दिया कि उनके पास पर्याप्त संख्याबल नहीं है। इस दौरान कफी खींचातानी के बाद महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लग गया।

गठबंधन के लिए जोरोसोर से बैठकों का दौर जारी

महाराष्ट्र में गठबंधन सरकार बनाने का हर मुमकिन प्रयास जारी हैं। जिसमेें जोरोसोर से कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना एक दूसरे की सहायता से सरकार बनाने की कोशिश में लगी हैं। इतने कोशिशों के बाद भी इसमें कुछ मुश्किलें आ रही हैं। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात से पहले शरद पवार ने सोमवार को कहा था कि भाजपा और शिवसेना ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था और ‘उन्हें अपना रास्ता चुनना है।’ वहीं संसद में मीडिया से बातचीत के दौरान पवार ने कहा, भाजपा -शिवसेना ने साथ चुनाव लड़ा था, और एनसीपी-कांग्रेस ने साथ चुनाव लड़ा था। उन्हें अपना रास्ता चुनना है और हमें अपनी राजनीति करनी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना के 1390 आये नये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 1390 नये मामले सामने आये आगे पढ़ें »

भारत में अल्पपोषित लोगों की संख्या छह करोड़ घटकर 14 प्रतिशत पर पहुंची : संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र : भारत में पिछले एक दशक में अल्पपोषित लोगों की संख्या छह करोड़ तक घट गई है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में आगे पढ़ें »

ऊपर