पश्चिम बंगाल चुनावों में रेप को राजनीतिक हथियार बनाने वाले,मालदा को भूल गए हैं-स्मृति ईरानी

नई दिल्ली : देशभर में महिलाओं के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद उन्हें जला दिए जाने की घटना से जनता में आक्रोश बढ़ा हुआ है। हैदराबाद, उन्नाव और अब मालदा से आ रही जघन्य वारदातों की खबरों ने समाज में महिलाओं की सुरक्षा के साथ ही लोगों की मानसिकता पर भी सवाल उठा दिए हैं। कड़े कानूनों के बावजूद ऐसी वारदातें बढ़ती जा रही हैं। इस पर शुक्रवार को लोकसभा में बहस तेज हो गई। सदन में एक ओर जहां कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने हैदराबाद एनकाउंटर पर बोलते हुए उन्नाव दुष्कर्म मामले में उत्तर प्रदेश की सरकार को घेरा वहीं उन्नाव घटना का विरोध जताते हुए कांग्रेस ने सदन से वॉकआउट किया। इस पर केंद्रिय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि महिला सम्मान के मामले में राजनीति नहीं होनी चाहिए।

ऐसा दुस्साहस पहले नहीं देखा

ईरानी ने कहा कि आप (विपक्षी सांसद) आज यहां चिल्ला रहे हैं, इसका मतलब है कि आप नहीं चाहते कि कोई महिला खड़ी हो और मुद्दों पर बात करे। जब पश्चिम बंगाल पंचायत चुनावों में दुष्कर्म को राजनीतिक हथियार के रूप में इस्तेमाल किया गया था, तब आप शांत थे। उन्होंने कांग्रेस नेता अधीर रंजन पर निशाना साधते हुए कहा कि महिला सम्मान के विषयों को सांप्रदायिक विषय से जोड़ना उचित नहीं है। ऐसा दुस्साहस मैंने पहले नहीं देखा। आज बंगाल के एक सांसद यहां पर मंदिर का नाम ले रहे थे। रेप को राजनीतिक हथियार के तौर पर इस्तेमाल करने वाले लोग यहां खड़े भाषण दे रहे हैं।

मालदा की घटना कैसे भूल गए

आगे केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एक सांसद (अधीर रंजन) ने तेलंगााना और उन्नाव की घटना का नाम लिया लेकिन मालदा की घटना कैसे भूल गए। उन्होंने आगे कहा कि क्या हैदराबाद में जो हुआ वह जघन्य अपराध नहीं है, क्या उन्नाव में जो हुआ वह जघन्य अपराध नहीं है, बिल्कुल है। क्या इन आरोपियों को सजाए मौत नहीं मिलनी चाहिए थी, बिल्कुल मिलनी चाहिए थी। लेकिन ऐसे मुद्दों पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। कांग्रेस सांसदों के हंगामे के बीच स्मृति ईरानी ने कहा कि उन्नाव और तेलंगाना में जो हुआ वो शर्मनाक है और दोषियों को फांसी मिलनी चाहिए।

देश में चल क्या रहा है

दरअसल, अधीर रंजन ने उत्तर प्रदेश सरकार को घेरते हुए कहा कि हैदराबाद में भागने की कोशिश करने वाले आरोपियों का हैदराबाद पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया गया, जबकि उत्तर प्रदेश में अपराधियों को खुली छूट दे दी गई है। उन्होंने कहा- उन्नाव में दुष्कर्म पीड़िता 95 फीसदी तक जल चुकी है, आखिर देश में चल क्या रहा है? एक ओर तो भगवान राम का मंदिर बनाया जा रहा है और दूसरी ओर सीता मैया को आग लगाई जा रही है।

सुनवाई सीधे उच्चतम न्यायालय में हो

शिवसेना के सांसद अरविंद सावंत ने कहा कि ऐसे कानून बनाने की जरूरत है, जिसके जरिए ऐसे (महिलाओं के खिलाफ अपराध) मामलों की सुनवाई सीधे उच्चतम न्यायालय में हो। अभी के समय से निचली अदालतों से ऐसे मामलों की सुनवाई शुरू होती है। उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से अनुरोध किया कि इस पर चर्चा के लिए एक समिति गठित करें।

एनकाउंटर में सभी आरोपियों को मार गिराया

गौरतलब है कि तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में महिला वेटनरी डॉक्टर से सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या और शव जलाने के मामले के सभी चारों आरोपियों को पुलिस ने शुक्रवार को वारदात की जगह पर सीन रिक्रिएशन के दौरान भागने की कोशिश करने पर एनकाउंटर में मार गिराया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अनअकैडमी, ड्रीम11 ने आईपीएल टाइटल प्रायोजक के लिये दस्तावेज सौंपे

नयी दिल्ली : शिक्षा प्रौद्यौगिकी कंपनी ‘अनअकैडमी’ और फंतासी स्पोर्ट्स मंच ‘ड्रीम11’ ने इस साल चीनी मोबाइल फोन कंपनी वीवो की जगह इंडियन प्रीमियर लीग आगे पढ़ें »

धोनी की अगुवाई में सीएसके खिलाड़ी आईपीएल शिविर के लिए चेन्नई पहुंचे

चेन्नई : भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी और चेन्नई सुपरकिंग्स के टीम के उनके साथी खिलाड़ी इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आगे पढ़ें »

ऊपर