एनआरसी, कैब के कारण किसी भी नागरिक को शरणार्थी नहीं बनने देंगे : ममता

momota

खड़गपुर : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को खड़गपुर में एक रैली को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) और नागरिकता संशोधन विधेयक (कैब) का विरोध करने के लिए विपक्षी दलों का आह्वान करते हुए कहा कि देश के एक भी नागरिक को शरणार्थी नहीं बनने दिया जाएगा। ममता ने एनआरसी और कैब को एक ही सिक्के के दो पहलू बताया। उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सत्ता में रहते बंगाल में कभी एनआरसी और कैब की इजाजत नहीं दी जाएगी।

एनआरसी और कैब को लेकर चिंता की जरूरत नहीं

ममता ने रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘एनआरसी और कैब को लेकर चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। हम बंगाल में कभी इसकी इजाजत नहीं देंगे। वे किसी वैध नागरिक को यूं ही देश से बाहर नहीं फेंक सकते या उसे शरणार्थी नहीं बना सकते।’’ बता दें कि इस रैली का आयोजन उपचुनावों में हाल में पार्टी को मिली जीत को लेकर किया गया था।

संविधान की मूल भावना से छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए

इससे पहले ममता बनर्जी ने संविधान के संस्थापकों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि किसी को भी संविधान की मूल भावना से छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए। ममता ने ट्वीट किया, ‘‘संविधान सभा की पहली बैठक आज ही के दिन 1946 में हुई थी। भारत का संविधान बनाने वाले संस्थापकों को मेरी श्रद्धांजलि। इस महान दस्तावेज में जो लिखा है हमें उसकी मूल भावना से कभी छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए।’’

मालूम हो कि अविभाजित भारत के लिये निर्वाचित संविधान सभा की पहली बैठक आज ही के दिन 1946 में कॉन्स्टीटूशन हॉल में हुई थी। इस हॉल को अब संसद के केंद्रीय कक्ष के तौर पर जाना जाता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

क्या शादी के बाद भी आप करते हैं…

नई दिल्ली : भारतीय समाज में शादी के बाद तो क्या शादी के पहले भी मास्टरबेशन को सहज नहीं माना जाता। यहां मानसिकता यही है आगे पढ़ें »

मोबाइल दुकान में 30 लाख की चोरी, व्यवसायी आतंकित

-45 मिनट तक चली चोरी, पुलिस को नहीं हुई भनक मोबाइल दुकान में 30 लाख की चोरी, व्यवसायी आतंकित -45 मिनट तक चली चोरी, पुलिस को नहीं आगे पढ़ें »

ऊपर