महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगा तो यह जनादेश का अपमान होगा : संजय राउत

raut

मुंबई : महाराष्‍ट्र में विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से भाजपा और शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर लगातार खींचतान जारी है। इस बीच शिवसेना सांसद संजय राउत का इस मामले पर बयान आया है। उन्होने कहा, ‘‘अगर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगता है तो यह जनादेश का अपमान होगा। महाराष्ट्र न तो झुक रहा है, न दिल्ली के सामने कभी झुकेगा। भाजपा से आगे न पीछे, न अंडरग्राउंड किसी भी तरह से कोई बात नहीं हुई है।’’

गडकरी की उद्धव से हो सकती है मुलाकात

सूत्रों के अनुसार, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी शुक्रवार को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात कर सकते हैं। इसके बारे में पूछने पर राउत ने कहा, ‘‘गडकरी जी का घर मुंबई के वर्ली में है। उन्हें यहां आने से कोई नहीं रोक सकता। अगर उनके पास शिवसेना को ढाई साल मुख्यमंत्री पद देने का कोई खत हो तो यह जानकारी में उद्धवजी को दे दूंगा।’’

गठबंधन तोड़ने का इरादा नहीं : उद्धव

वहीं, गुरुवार को उद्धव ठाकरे की मौजूदगी में पार्टी विधायकों की बैठक के बाद सभी विधायकों को होटल भेज दिया गया। एक घंटे तक चली इस बैठक में शिवसेना विधायक सत्ता भागीदारी के 50-50 फॉर्मूला पर अड़े रहे। उद्धव ने कहा कि हम भाजपा से गठबंधन तोड़ने का इरादा नहीं रखते हैं, लेकिन भाजपा को उस समझौते पर बने रहना होगा, जो लोकसभा चुनाव से पहले किया गया था।

आदित्य सहित वरिष्ठ नेता होटल पहुंचकर विधायकों से मिले

दूसरी तरफ गुरुवार आधी रात को शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे और वरिष्ठ नेता रामदास कदम और एकनाथ शिंदे भी होटल पहुंचे। यहां तीनों नेताओं ने करीब 90 मिनट तक विधायकों से बातचीत की। बताया जा रहा है कि विधायक अगले 2 दिन तक और इसी होटल में रहेंगे। बता दें कि राज्य की मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल कल 9 नवंबर खत्म हो रहा है। फिलहाल, ऐसे में सरकार गठन को लेकर चल रहे प्रयासों का आज अंतिम दिन माना जा रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

28 को शाह के साथ मंच साझा कर सकती हैं ममता

कोलकाता : आगामी 28 फरवरी यानी शुक्रवार काे ओडिशा के भुवनेश्वर में पूर्वांचल राज्यों की सुरक्षा काे लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बैठक आगे पढ़ें »

भाजपा शुरू करने जा रही है ‘भाजपा के बोलो’

मिदनापुर : तृणमूल के ‘दीदी के बोलो’ की तर्ज पर अब ‘भाजपा के बोलो’ अभियान की शुरुआत होने जा रही है। इस बारे में प्रदेश आगे पढ़ें »

ऊपर