लद्दाख में टकराये भारत और चीन के सैनिक, ‘फेस ऑफ’ की बनी स्थिति

china-india-army

नई दिल्ली : पूर्वी लद्दाख में पेंगोंग त्सो झील के नजदीक बुधवार को भारत और चीन के सैनिकों के बीच गरमागरम बहस हुई। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि इलाके में भारतीय सैनिकों की गश्त पर चीन के सैनिकों ने आपत्ति जताई जिसके बाद यह बहस हुई। दोनों देशों के सैनिकों के आमने-सामने आने की वजह से ‘फेस ऑफ’ की स्थिति बन गई। सैन्य सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस घटना का कारण भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा को लेकर अलग-अलग नजरिया है। लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने के भारत सरकार के फैसले से चीन परेशान है। जिस वजह से लद्दाख मामले पर चीन और भारत में तनातनी का भी माहौल बना है। हालांकि इस मसले को बुधवार को प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के दौरान सुलझा लिया गया।

2017 में भी हुई थी झड़प

बता दें कि इससे पहले भी साल 2017 में लद्दाख के पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे के समिपवर्ती क्षेत्र में भारत और चीन के सैनिक आपस में भीड़ चुके हैं। वहीं डोकलाम में भी दोनों देशों के सैनिकों के बीच झड़प की खबरें आई थी। डोकलाम में तो दोनों तरफ के सैनिकों के बीच काफी समय तक गरमागरमी चली थी। उस दौरान दोनों दोशों के जवान करीब 70 दिनों तक एक दूसरे के सामने डटे रहने के बाद हटे थे।

भारत के फैसले को ‘अस्वीकार्य’ बताया था

बताया जा रहा है कि भारत सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से 370 हटाये जाने तथा घाटी को 2 भागों में बांटे जाने के कारण चीन बौखलाया हुआ है और पाकिस्तान की हां में हां मिलाते हुए इस पर आपत्ति जता रहा है। बता दें कि चीन ने लद्दाख को जम्मू-कश्मीर से अलग कर केंद्र शासित प्रदेश बनाने के भारत के फैसले को ‘अस्वीकार्य’ बताया था। हालांकि भारत सरकार ने चीन के इस विरोध का जवाब देते हुए कहा था कि यह भारत का आंतरिक मामला है। वहीं विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया था कि भारत किसी भी देश के आंतरिक मसलों में कोई टिप्पणी या हस्तक्षेप नहीं करता और इसी प्रकार के व्यवहार की उम्मीद वह अन्य देशों से भी करता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

hongkong

हांगकांग ‘लोकतंत्र अधिनियम’ पारित, चीन ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

वाशिंगटन : हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों की मांग वाले एक विधेयक को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने मंगलवार को पारित कर दिया, जिसका उद्देश्य उस आगे पढ़ें »

रतन टाटा खुद को मानते हैं ‘एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक’, कई बड़ी कंपनियों में है हिस्सेदारी

नई दिल्ली : उद्योगपति और टाटा समूह के चेयरमैन रतन टाटा ने खुद को 'एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक' माना है। उन्होंने दर्जनभर से ज्यादा स्टार्टअप कंपनियों आगे पढ़ें »

court

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 40 दिन की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा

ayodhya

अयोध्या मामला : मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा, शीर्ष न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया जाना चाहिए

अमेरिकी प्रतिबंधों के पालन के लिए भारत अपना नुकसान नहीं करेगा: वित्त मंत्री

russia

तुर्की और सीरिया की लड़ाई में रूस बना दीवार, तैनात की अपनी आर्मी

sitaraman

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद ‘मानवाधिकार’ विश्व स्तर पर ज्वलंत शब्द बन गया : सीतारमण

chetak

बजाज ने पेश किया इलेक्ट्रिक चेतक स्कूटर, सामने आया पहला लुक

rail

रेलवे ने शुरू की नई योजना, अब फिल्म प्रमोशन के लिए हो सकेगी ट्रेनों की बुकिंग

modi

पीएम मोदी बोले- राष्ट्र निर्माण का आधार है सावरकर के संस्कार

ऊपर