मैं जीडीपी की धीमी दर से चिंतित नहीं, कुछ चीजों का असर भविष्य में-प्रणव मुखर्जी

कोलकाता : पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने बुधवार को कहा कि आर्थिक मंदी को लेकर वह चिंतित नहीं हैं क्योंकि जो कुछ चीजें हो रही हैं उनके अपने प्रभाव होंगे जो आगे दिखेंगे। संप्रग सरकार में वित्त मंत्री रहे मुखर्जी ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में पूंजी डालने में कुछ भी गलत नहीं है। भारतीय सांख्यिकीय संस्थान के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुखर्जी ने कहा कि ‘देश में जीडीपी वृद्धि की धीमी दर को लेकर मैं चिंतित नहीं हूं। कुछ चीजें हो रही हैं जिनके अपने प्रभाव होंगे।’

सार्वजनिक क्षेत्र को बड़े पैमाने पर पूंजी की जरूरत

पूर्व राष्ट्रपति ने कहा कि साल 2008 में आर्थिक संकट के दौरान भारतीय बैंकों ने लचीलापन दिखाया था। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि ‘तब मैं वित्त मंत्री था। सार्वजनिक क्षेत्र के एक भी बैंक ने धन के लिए मुझसे संपर्क नहीं किया।’ मुखर्जी ने कहा कि अब सार्वजनिक क्षेत्र को बड़े पैमाने पर पूंजी की जरूरत है और इसमें कुछ भी गलत नहीं है।

समस्याओं के समाधान के लिए वार्ता महत्वपूर्ण

पूर्व राष्ट्रपति ने कहा कि लोकतंत्र में समस्याओं के समाधान के लिए वार्ता महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि वार्ता तो जरूरी है साथ ही लोकतंत्र में डाटा की शुचिता भी उतनी ही महत्वपूर्ण है। मुखर्जी का कहना है कि ‘डाटा की शुचिता बनाए रखी जानी चाहिए। अन्यथा इसका खतरनाक प्रभाव होगा। इसके साथ छेड़छाड़ करना उचित नहीं है।’

आयोग ने अर्थव्यवस्था के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई

प्रणव मुखर्जी ने कहा की ‘कभी-कभी मैं अखबारों में पढ़ता हूं कि डेटा पर सवाल उठाया जाता है, तो मुझे दुख होता है। योजना आयोग ने देश की अर्थव्यवस्था के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। मुझे खुशी है कि कुछ कार्य अभी भी नीति आयोग द्वारा किए जा रहे हैं।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

आस्ट्रेलिया ओपन : नडाल और किर्गियोस जीते, प्रदूषित बारिश से कोर्ट पर कीचड़ फैला

मेलबर्न : रफेल नडाल और निक किर्गियोस ने अपने अपने मुकाबलों में जीत के साथ गुरुवार को यहां आस्ट्रेलिया ओपन के पुरुष एकल के तीसरे आगे पढ़ें »

टी20 : पहली बार कीवी टीम के खिलाफ सीरीज जीतने उतरेगी टीम इंडिया

आकलैंड : टी20 विश्व कप की तैयारी के लिये अहम मानी जा रही पांच मैचों की सीरीज के पहले मैच में शुक्रवार को आत्मविश्वास से आगे पढ़ें »

अजहर के खिलाफ 21 लाख की धोखाधड़ी का मामला, अजहर ने कहा- आरोप बेबुनियाद

नीतीश ने पवन वर्मा को दिया झटका, कहा- जो दल पसंद हो वहां जा सकते हैं, मेरी शुभकामनाएं

मिलावट के बावजूद भारतीय बाजारों में बिकने वाले दूध स्वास्‍थ्य के लिए फायदेमंद

netaji

नेताजी ने हिंदू महासभा की विभाजनकारी राजनीति का विरोध किया था : ममता

ऑस्ट्रेलिया जंगल में फिर बढ़ी आग की लपटें, अभियान में जुटे विमान दुर्घटना में 3 अमेरिकियों की मौत

ईयरफोन के अधिक इश्तेमाल से हो सकती है कई बीमारियां, पढ़ें

मुसलमान विश्व में किसी अन्य स्थान से अधिक सुरक्षित हैं भारत मेंः गोयल

व्यापारिक तनाव कम करने के लिए मलेशिया भारत से खरीदेगा चीनी

ऊपर