मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने की गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात

Mamata Banerjee meets Amit Shah

नई दिल्ली : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। दोनों नेताओं के बीच मुलाकात गृह मंत्रालय में हुई। इस दौरान ममता ने असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) के मुद्दे पर चर्चा की। बता दें कि इससे पहले ममता बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। मुलाकात के दौरान उन्होंने पीएम को जन्मदिन की बधाई दी, इसके साथ ही मिठाई और कुर्ता भेंट किया और साथ ही पीएम को बंगाल आने का न्योता भी दिया।

एनआरसी मुद्दे पर हुई बातचीत

शाह से मुलाकात के बाद ममता ने संवाददाताओं से कहा कि केन्द्र और राज्य को एक साथ मिलकर काम करना एक संवैधानिक जिम्मेदारी है। ममता ने कहा कि शाह से बातचीत के दौरान उन्होंने असम में की गई एनआरसी की प्रक्रिया का मुद्दा उठाया और इस बारे में उन्हें एक ज्ञापन दिया। उन्होंने कहा कि असम में जिन 19 लाख लोगों का नाम रजिस्टर में शामिल नहीं किया गया है। उनमें हिन्दी भाषी, बंगला भाषी और गोरखा शामिल हैं। कई वास्तविक मतदाताओं के नाम भी इस रजिस्टर में नहीं हैं, जिसके बाद उनके जीवन में इससे अनिश्चितता आ गयी है।

बंगाल में एनआरसी की जरूरत नहीं

ममता बनर्जी ने आगे कहा कि गृहमंत्री शाह के साथ पश्चिम बंगाल में एनआरसी मुद्दे पर बातचीत हुई, लेकिन इस मामले पर उन्होंने कुछ नहीं कहा। इस दौरान दोनों के बीच बंगाल का नाम बदलने के विषय पर भी बातचीत हुई। गौरतलब है कि गृहमंत्री बनने के बाद पहली बार मुख्यमंत्री ने शाह से मुलाकात की।

शाह से मिलने की इच्छा जानकर लगी अटकलें

गौरतलब है कि बनर्जी ने गृह मंत्री शाह से मिलने की इच्छा ऐसे वक्त जताई है जब सीबीआई कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के खिलाफ हथौड़ा चला रही है। दरअसल, शारदा चिटफंड मामले में कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार का पता लगाने के लिए सीबीआई ने एक विशेष टीम का गठन किया है। साथ ही उनका पता लगाने के लिए सीबीआई कई जगहों पर छापेमारी भी कर रही है। सूत्रों के मुताबिक, राजीव कुमार को तीन बार समन भेजा गया है। वो अब तक हाजिर नहीं हुए हैं।

15 महीने के बाद मोदी से की मुलाकात
इससे पहले बुधवार को राजनीतिक अटकलों के बीच 15 महीने के अंतराल के बाद बनर्जी ने प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करते हुए राज्य में कुछ रुकी हुई परियोजनाओं को पुनर्जीवित करने की अपील की। प्रधानमंत्री के साथ बैठक को अच्छा बताते हुए ममता ने कहा कि राज्य का नाम बदलने से संबंधित उनका एजेंडा सबसे ऊपर है। उन्होंने कहा, “हमने पश्चिम बंगाल का नाम बदलकर बांग्ला करने पर चर्चा की और उन्होंने इसके बारे में कुछ करने का वादा भी किया है।” इसके अलावा बैठक के दौरान रेलवे और खनन से संबंधित रुकी हुई परियोजनाओं व कुछ सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों के विनिवेश के संबंध में भी बातचीत की गई।

शेयर करें

मुख्य समाचार

hongkong

हांगकांग ‘लोकतंत्र अधिनियम’ पारित, चीन ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

वाशिंगटन : हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों की मांग वाले एक विधेयक को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने मंगलवार को पारित कर दिया, जिसका उद्देश्य उस आगे पढ़ें »

रतन टाटा खुद को मानते हैं ‘एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक’, कई बड़ी कंपनियों में है हिस्सेदारी

नई दिल्ली : उद्योगपति और टाटा समूह के चेयरमैन रतन टाटा ने खुद को 'एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक' माना है। उन्होंने दर्जनभर से ज्यादा स्टार्टअप कंपनियों आगे पढ़ें »

court

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 40 दिन की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा

ayodhya

अयोध्या मामला : मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा, शीर्ष न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया जाना चाहिए

अमेरिकी प्रतिबंधों के पालन के लिए भारत अपना नुकसान नहीं करेगा: वित्त मंत्री

russia

तुर्की और सीरिया की लड़ाई में रूस बना दीवार, तैनात की अपनी आर्मी

sitaraman

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद ‘मानवाधिकार’ विश्व स्तर पर ज्वलंत शब्द बन गया : सीतारमण

chetak

बजाज ने पेश किया इलेक्ट्रिक चेतक स्कूटर, सामने आया पहला लुक

rail

रेलवे ने शुरू की नई योजना, अब फिल्म प्रमोशन के लिए हो सकेगी ट्रेनों की बुकिंग

modi

पीएम मोदी बोले- राष्ट्र निर्माण का आधार है सावरकर के संस्कार

ऊपर