हेलमेट नहीं पहनने पर बस चालक का कटा चालान, कहा-अदालत जाऊंगा

Bus driver's challaned

नोएडा : देश के हर कोने में न्यू मोटर व्हीकल एक्ट के लागू होने के बाद से बड़े स्तर पर चालान काटे जा रहे हैं। राज्य में यह कानून लागू हुआ है कि नहीं, इससे फर्क नहीं पड़ता। हर जगह लगातार चैकिंग जारी हैं और काफी चलाने भी कट रही हैं। पर इन सब के बीच लापरवाही के भी कई किस्से सामने आए है। नाेएडा में एक ऐसा ही मामला सामने आया है जिससे सबके हाेश उड़ गए हैं। शहर के एक निजी बस चालक निरंकार सिंह ने दावा करते हुए कहा कि हेलमेट पहन कर गाड़ी नहीं चलाने की वजह से कथित रुप से 500 रुपए का चालान कट गया है। उन्होंने बताया कि 11 सिंतबर को ऑनलाइन चलान किया गया जिसे उनके कर्मी ने देखा था।

जरुरत पड़ने पर अदालत जाऊंगा

हेलमेट पहन कर गाड़ी नहीं चलाने की वजह से 500 का चालान कटने की बात पर सिंह ने कहा कि वह संबंधित अधिकारियों से इस विषय पर बात करेंगे और अगर जरूरत पड़ी तो अदालत भी जाऐंगे। उन्होंने कहा कि परिवहन विभाग के ऐसे कार्यो के कारण ही कई प्रकार के सवाल खड़े होते हैं। हर दिन जारी किए जाने वाले सैकेड़ों चलान की निष्कपटता को लेकर आशंका पैदा करती है। वहीं दूसरी ओर अधिकारियों ने कहा कि इस मामले की जांच चल रही है और अगर कोई गलती हुई है तो उसे सुधारा जाएगा। मालूम हो कि अधिकारी के मुताबिक चालान नोएडा की यातायात पुलिस ने काटी है न कि चालान परिवहन विभाग ने। गौरतलब है कि कुछ समय पहले यूपी के महाराजगंज जनपद में यातायात पुलिस ने सरकारी बस का चालान काटा था जिसमे ड्रइवर ने हेलमेट नहीं पहना था। उसके नाम पर भी 500 रुपए का जुर्माना लगाया गया था और यह दिखाया गया था कि वह बिना हेलमेट पहने ही गाड़ी चला रहा था। मोदी सरकार द्वारा संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने के बाद से ट्रैफिक नियम काफी सख्त हो गयी है। हालांकि कई भाजपा शासित राज्यों में भी अभी तक इसे पूर्ण रुप से लागू नहीं किया गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अप्रैल में सोने के निर्यात में करीब 100 फीसद की गिरावट दर्ज की गई

नई दिल्ली : हालिया वैश्विक गतिविधियों के कारण देश का स्वर्ण आयात लगातार घट रहा है। इस साल अप्रैल में लगातार पांचवे महीने देश के आगे पढ़ें »

‘क्रिकेट की बहाली के लिये आईसीसी के कुछ दिशा निर्देश अव्यवहारिक, समीक्षा की जरूरत’

हर बार गेंद को छूने के बाद हाथ सेनिटाइज करना संभव ही नहीं नयी दिल्ली : पूर्व क्रिकेटरों आकाश चोपड़ा, इरफान पठान और मोंटी पनेसर का आगे पढ़ें »

ऊपर