जम्मू-कश्मीर पर बलूच नेता ने पाक की बोलती इस तरह की बंद

baloch

स्विटजरलैंड : जम्मू-कश्मीर पर पूरी दुनिया में ढिंढोरा पीटकर भारत पर आरोप लगाने वाले पाखंडी पाकिस्तान को एक बलूच नेता ने आइना दिखाया है। पाकिस्तान में ही अत्याचारों का सामना कर रहे बलूचिस्‍तान के नेता मेहरान मारी का कहना है कि भारत पर आरोप लगाने से पहले पाकिस्तान को अपने घर में झांकने की जरूरत है। मेहरान ने कहा कि पाक को कश्मीर पर बोलने का कोई हक नहीं क्योंकि बलूचिस्‍तान में भरी पाकिस्तान के द्वारा अत्याचार किए जा रहे हैं। बता दें कि बलूच मानवाधिकार परिषद ने मंगलवार को जेनेवा में संयुक्त राष्ट्र के सामने एक टेंट में ‘द ह्यूमैनिटेरियन क्राइसिस इन बलूचिस्तान’ पर एक ब्रीफिंग का आयोजन किया।

बलूचिस्तान में हो रहा मानवधिकारों का उल्लंघन

बलूच नेता मेहरान मारी ने कहा कि जेनेवा में पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी विदेशी पत्रकारों को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर बुला रहे हैं। उन्हें जरा सी शर्म नहीं कि बलूचिस्तान में नरसंहार और मानवाधिकारों का उल्लंघन हो रहा है। उन्होंने कहा कि उइगर मुसलमानों के खिलाफ शिनजियांग प्रांत में अपने अपराध में भागीदार चीन द्वारा किए गए मानवाधिकारों के हनन की अनदेखी कर पाकिस्तान दुनिया का ध्यान कश्मीर पर लाना चाह रहा है।

पीओके और बलूचिस्तान में रोज होते हैं प्रदर्शन

बता दें कि पिछले कुछ वर्षों से लगातार पीओके और बलूचिस्तान में अत्याचार हो रहा है। रोजाना वहां के लोग पाकिस्तान सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हैं, लेकिन पाक हर बात को दबा देता है और लोगों पर जुल्म जारी रखता है। पीओके के लोग हर बार आजादी के लिए आवाज उठाते हैं और भारत के साथ आने की बात करते हैं, लेकिन पाकिस्तान उनकी आवाज को दबा देता है। गौरतलब है कि पाकिस्तान ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में जम्मू-कश्मीर का मुद्दा उठाते हुउ भारत पर कई आरोप लगाए, लेकिन भारत ने अपनी तर्कों से पाकिस्तान की बोलती बंद कर उसके दोहरे चेहरे को बेनकाब कर दिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों में पीओके की आजादी के लिये ‘जुनून’ है : ठाकुर

जम्मू : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर आगे पढ़ें »

पिछले पांच-छह साल में बढ़े हैं दलितों पर अत्याचार : प्रशांत भूषण

नयी दिल्ली : भीम आर्मी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले पांच-छह साल आगे पढ़ें »

ऊपर