सीएए को लेकर अमित शाह बरसे केजरीवाल पर, कहा- चुल्लू भर पानी में डूब मरें

shah

नई दिल्ली : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए उन्हें चुल्लू भर पानी में डूब मरने की नसीहत दी है। शनिवार को दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा आयोजित कार्यक्रम ‘जीत की गूंज’ को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि दिल्ली में जो 30 प्रतिशत लोग पाकिस्तान से आए हैं वे पाकिस्तानी नहीं, हमारे भाई हैं लेकिन अगर केजरीवाल को लगता है कि पाकिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना झेलकर भारत आए शरणार्थी पाकिस्तानी हैं और भाजपा पाकिस्तानियों को पनाह दे रही है तो मुख्यमंत्री को चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाह‌िए। पाकिस्तान से भारत की शरण में आए उन लोगों को भी इस देश की जमीन पर पूरा अधिकार है।

वोट बैंक की राजनीति के लिए सीएए का विरोध

इसके अलावा कार्यक्रम में शहीन बाग में जारी विरोध प्रदर्शन पर बयान देते हुए अमित शाह ने कहा कि हम ऐसी दिल्ली चाहते हैं जहां शाहीन बाग न हो। देश के टुकड़े करने वाले जिन लोगों का केजरीवाल समर्थन दे रहे हैं, उन्हें जेल में डाल देना चाहिए। उन्होंने आगे कहा, “कांग्रेस और केजरीवाल कहते है कि मोदी जी ने सर्जिकल स्ट्राइक क्यों की? इसके सबूत दिखाओ। अरे, सबूत मांगने वालों, टीवी चैनल देख लो, पाकिस्तानी रो रहे हैं, अपनी छाती पीट रहे हैं। ये लोग कहते हैं कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) इस देश के लिए उचित नहीं है, इसे वापस लो। लेकिन मैं इनसे कहना चाहता हूं कि इस कानून के तहत प्रताड़ित लोगों को नागरिकता दी जाएगी, किसी भी भारतीय से उसकी नागरिकता छीनी नहीं जाएगी। ये लोग केवल अपने वोट बैंक की राजनीति के लिए सीएए का विरोध कर रहे हैं। ”

दिल्ली को बदलना चाहते हैं मोदी

शाह ने कहा, “जो टुकड़े-टुकड़े गैंग देश में इस कदर हिंसा फैलाते हैं, जनता को गुमराह करते हैं क्या इन्हें जेल नहीं भेज देना चाह‌िए? पांच वर्षों तक मोदी ने जनता के हित में काम किया है। उन्होंने दुनिया में भारत को सम्मान दिलाने वाला काम किया है, सबके बारे में सोचा है, देश को बदला है और अब मोदी जी दिल्ली को बदलना चाहते हैं।”

शेयर करें

मुख्य समाचार

बिहार विधानसभा: भाजपा-लोजपा के बीच सीटों पर असमंजसता कायम

नई दिल्ली: बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारियों के बीच एनडीए में सीटों के बंटवारे को लेकर स्थिति अब तक साफ नहीं हो पाई है। एनडीए आगे पढ़ें »

स्कूल फीस मामले में कई विकल्पों की पेशकश

कोलकाता : स्कूल फीस में रियायत देने के मामले में दो विकल्प उभर कर सामने आए हैं। इस बाबत हाई कोर्ट के जस्टिस संजीव बनर्जी आगे पढ़ें »

ऊपर