मुजफ्फरपुर आश्रय गृह मामले में अभियुक्त की याचिका पर सीबीआई से जवाब तलब

नयी दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने बिहार में मुजफ्फरपुर के एक आश्रय गृह में कई लड़कियों के कथित यौन और शारीरिक शोषण के मामले में मुख्य अभियुक्त ब्रजेश ठाकुर की याचिका पर सीबीआई से जवाब मांगा है। याचिका में दावा किया गया है कि मामले में जो गवाह हैं उनके बयान विश्वास योग्य नहीं हैं।
अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सौरभ कुलश्रेष्ठ ने सीबीआई को दो दिन के भीतर जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया और मामले में फैसले की घोषणा तीसरी बार टाली। फैसला 20 जनवरी तक टाला गया है। अधिवक्ता पी.के दुबे की ओर से दायर याचिका में कहा गया है कि अभियोजन पक्ष के गवाह उत्कृष्ट नहीं हैं। मामले में कुछ आरोपितों का प्रतिनिधित्व कर रहे अधिवक्ता धीरज कुमार ने कहा कि यह याचिका इसलिए दायर की गयी है, क्योंकि जांच एजेंसी ने उच्चतम न्यायालय में यह बयान दिया है कि जिन लड़कियों के बारे में ऐसा माना जा रहा था कि उनकी कथित तौर पर हत्या कर दी गयी है, वे असल में जिंदा हैं। इससे पहले अदालत ने आदेश 14 जनवरी तक के लिए टाल दिया था क्योंकि न्यायाधीश अवकाश पर थे। इससे पहले राष्ट्रीय राजधानी की छह जिला अदालतों में वकीलों की हड़ताल के मद्देनजर आदेश को महीने भर के लिए टालना पड़ा था। अदालत ने 20 मार्च 2018 को ब्रजेश ठाकुर समेत आरोपितों के खिलाफ आरोप तय किए थे। आरोपितों में आठ महिलाएं और 12 पुरुष हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सेरेना विलियम्स फिट, छह महीने के ब्रेक के बाद खेलने को तैयार

लेक्सिंगटन (अमेरिका) : अमेरिका की 23 बार की ग्रैंडस्लैम चैम्पियन सेरेना विलियम्स अब पूरी तरह फिट हैं और छह महीने के ब्रेक के बाद टेनिस आगे पढ़ें »

लंबा नहीं चलेगा जसप्रीत बुमराह का करियर : शोएब अख्तर

इस्‍लामाबाद : पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर का कहना है कि जसप्रीत बुमराह प्रतिभावान गेंदबाज हैं, लेकिन अपने मुश्किल गेंदबाजी एक्शन के कारण आगे पढ़ें »

ऊपर