कर्नाटक में इस्तीफा देने वाले विधायकों से मिलकर निर्णय लें स्पीकर- सुप्रीम कोर्ट

बेंगलुरु : कर्नाटक में चल रहे सियासी घटनाक्रम के एपिसोड ने एक नया मोड़ ले लिया है। गुरुवार को कांग्रेस-जेडीएस के 10 बागी विधायकों की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वे आज शाम 6 बजे कर्नाटक विधानसभा अध्‍यक्ष से जाकर मिलें और अपना निर्णय बताएं। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष को शुक्रवार तक अपना फैसला सुनाना होगा नहीं तो अदालत कल फिर सुनवाई करेगी। अदालत ने इसके अलावा कर्नाटक पुलिस को आदेश दिया गया है कि सभी बागी विधायकों को सुरक्षा प्रदान की जाए जिससे उन्हें स्पीकर से मिलने में कोई परेशानी ना हो। वहीं सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद गुरुवार को राज्यसभा में जमकर हंगामा हुआ। इसके बाद संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी सहित अन्य नेताओं ने संसद के बाहर लगी महात्मा गांधी की मूर्ति के पास जमकर प्रदर्शन करते हुए नारेबाजी की।
स्पीकर जानबूझ कर विलम्ब कर रहे हैं
याचिकाकर्ता विधायकों की ओर से अदालत में पेश हुए वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई की पीठ से कहा कि ऐसे मामलों में वक्त की बहुत अहमियत होती है। कर्नाटक के इस घटनाक्रम को उन्होंने निराशाजनक स्थिति करार दिया है। साथ ही उन्होंने कहा कि विधायकों के इस्तीफों को लेकर स्पीकर जानबूझ कर विलम्ब कर रहे हैं।
कुमारस्वामी ने बुलाई बैठक
बता दें कि राज्य के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने गुरुवार को मंत्रिमंडल की बैठक बुलाई है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि इस बैठक में सत्तापक्ष के सभी नेताओं को उप‌‌स्थित रहने के लिए कहा गया है। कार्यालय का कहना है कि उसने सभी को आमंत्रित इसलिए किया है क्योंकि, उन बागी विधायकों ने अपने पार्टी अध्यक्ष को इस्तीफा सौंपा है, मुख्यमंत्री को नहीं। उधर, कांग्रेस नेता एसटी सोमशेखर बुधवार देर रात मुंबई से बेंगलुरु लौट आए। सोमशेखर बेंगलुरु डेवलपमेंट अथॉरिटी (बीडीए) के अध्यक्ष हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैं यहीं रहूंगा, वापस मुंबई नहीं जा रहा हूं। मैंने विधायकी से इस्तीफा दिया है, लेकिन अभी भी कांग्रेस में हूं।’’
भाजपा विधायकों की भी बैठक आज
वहीं दूसरी ओर भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा ने भी गुरुवार को पार्टी के सभी विधायकों की बैठक बुलाई है। बैठक में राजनीतिक घटनाक्रम से संबंधित मुद्दों पर चर्चा होने की संभावना जताई जा रही है। विधायकों के इस्तीफे की स्वीकृति में देरी पर येदियुरप्पा ने कहा कि शीर्ष अदालत के निर्देश से सभी अनिश्चितताओं के खत्म होने के आसार हैं।
2 और विधायकों ने दिया इस्तीफा
बता दें कि इस बीच कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार को एक और झटका लगा है। बुधवार को कांग्रेस के 2 और विधायकों एमटीबी नागराज और के. सुधाकर ने इस्तीफा दे दिया जिससे गठबंधन के बागी विधायकों की संख्या बढ़कर 16 हो गई है। इनमें से 13 कांग्रेस के और 3 जेडीएस के हैं। कर्नाटक का यह सियासी नाटक कब थमेगा अभी यह कह पाना बहुत मुश्किल नजर आ रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

बैडमिंटन : मंत्रालय की गाइडलाइंस के बाद कोर्ट पर उतरे लक्ष्य

नयी दिल्‍ली : स्पोर्ट्स ऑथोरिटी ऑफ इंडिया (साई) की गाइडलाइंस के बाद बेंगलुरु में पादुकोण-द्रविड़ सेंटर ऑफ एक्सीलेंस अकादमी में बैडमिंटन खिलाड़ियों ने प्रैक्टिस शुरू आगे पढ़ें »

ऊपर