येदियुरप्पा- कन्नड़ के महत्व से कभी समझौता नहीं करेंगे, ममता ने दिया साथ

Yeddyurappa

नई दिल्ली : देश के लिये एक भाषा के रूप में हिंदी की पैरवी को लेकर छिड़ी बहस के बीच कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने साफ कह दिया कि कन्नड़ राज्य में मुख्य भाषा है और इसके महत्व से कभी समझौता नहीं किया जायेगा। वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने येदियुरप्पा का साथ देते हुए कहा कि हम अपनी मातृभाषा से कोई समझौता नहीं करेंगे।

मातृभाषा के महत्व से समझौता नहीं

कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘हमारे देश में सभी आधिकारिक भाषाएं समान हैं। हालांकि, जहां तक कर्नाटक का सवाल है, कन्नड़ यहां मुख्य भाषा है।’ येदियुरप्पा ने ट्वीट किया, ‘हमलोग अपनी मातृभाषा के महत्व से कभी समझौता नहीं करेंगे। हम कन्नड़ एवं अपने राज्य की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिये प्रतिबद्ध हैं।’

मातृभाषा को नहीं भूलना चाहिए : ममता

येदियुरप्पा के समर्थन में ममता ने कहा कि हमें सभी भाषाओं और संस्कृतियों को समान रूप से सम्मान देना चाहिए। हम कई भाषाएं सीख सकते हैं, लेकिन हमें अपनी मातृभाषा को कभी नहीं भूलना चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि अन्य भाषाओं के सम्मान के लिए हम अपनी मातृभाषा से समझौता नहीं करेंगे।

भाषा थोपने पर होगा विरोध

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को देश की आम भाषा के रूप में हिंदी पर जोर दिया था जिसके कारण हिंदी भाषा के मुद्दे पर बहस तेज हो गयी, क्योंकि दक्षिण भारत के कुछ दलों ने कहा है कि वे भाषा को थोपने के किसी भी प्रयास का विरोध करेंगे। कर्नाटक में विपक्षी दलों कांग्रेस एवं जद (एस) ने भाजपा और शाह पर निशाना साधा और उन पर हिंदी को थोपने का प्रयास करने का आरोप लगाया।

घर तोड़ने वाला है शाह : सिद्धारमैया

कांग्रेस विधायक दल के नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने शाह के बयान को लेकर उन्हें ‘घर तोड़ने वाला’ तक कह दिया। उन्होंने कहा कि ‘भारत का समृद्ध इतिहास और विविध भौगोलिक स्थितियां हैं। प्रत्येक की अपनी विविधतापूर्ण संस्कृति एवं प्रथा है। हमें एकजुट रहने के लिये इस विविधता को अपनाना होगा।’ इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कह दिया कि ‘अमित शाह एक संयुक्त परिवार में ऐसे कुटिल सदस्य हैं जो इस एकता को तोड़ने का तरीका ढूंढते हैं।’ उन्होंने ट्वीट में लिखा, ‘इस घर तोड़ने वाले व्यक्ति को सबक सिखाना होगा।’

‘कन्नड़ दिवस’ मनाकर दिखायें : कुमारस्वामी

एक अन्य पूर्व मुख्यमंत्री और जद (एस) नेता एच डी कुमारस्वामी ने मोदी को ललकारते हुए कहा था कि अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में हिम्मत है तो वे ‘कन्नड़ दिवस’ मनाकर दिखायें। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा, ‘याद रखिये कर्नाटक के लोग संघीय प्रणाली का हिस्सा हैं।’

कमल हासन ने भी जताया था विरोध

गृहमंत्री के बयान पर फिल्म अभिनेता से राजनीति में आए कमल हासन ने कहा कि साल 1950 में देशवासियों से वादा किया गया था कि उनकी भाषा और संस्कृति की रक्षा की जाएगी। कोई शाह, सम्राट या सुल्तान इस वादे को अचानक से खत्म नहीं कर सकता।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शेयर बाजारों में लगातार पांचवें दिन तेजी

मुंबई : शेयर बाजारों में मंगलवार को लगातार पांचवें कारोबारी सत्र मे तेजी रही और बीएसई सेंसेक्स और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी दोनों बढ़त आगे पढ़ें »

बंगाल में ध्वनि प्रदूषण रोकने के लिए लगेंगे 2,000 से ज्यादा निगरानी यंत्र

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में ध्वनि प्रदूषण पर रोक लगाने के प्रयासों के तहत राज्य में 2,000 से ज्यादा ध्वनि निगरानी यंत्र लगाए जा रहे आगे पढ़ें »

ऊपर