ट्रंप : सही नियमों से ही महाभियोग की जांच में करेंगे सहयोग

Donald Trump

वॉशिंगटन : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर 24 सिंतबर को महाभयोग की प्रक्रिया शुरु कर दी गई थी। आरोपों में कहा गया था कि ट्रंप ने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडाइमर जेलेंस्की पर दबाव बनाया कि वह ट्रंप के डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी जो बाईडन और उनके बेटे के खिलाफ भ्रष्टाचार की जांच शुरू करें। हालांकि उस वक्त ट्रंप ने उन आरोपों को झुठला दिया था। लेकिन बुधवार को अपने बयान में डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि वह महाभियोग की जांच में सहायता करने के लिए राजी है पर उन्होंने इसके लिए सही नियमों की शर्त्त रखी है। उन्होनें कहा है कि वह डेमोक्रेट्स की अगुवाई में चल रहे महाभियोग की जांच में तभी भाग लेंगे जब उसे निष्पक्षता और नियमसंगत तरीके से किया जाएगा। महाभियोग की प्रतिक्रिया में डेमोक्रेट्स के साथ सहयोग करने की बात पर ट्रंप ने कहा ‌कि अगर डेमोक्रेट्स मुझे संवैधानिक प्रक्रिया के तहत अधिकार देंगे तो मुझे कोई दिक्कत नहीं है। मैं सहयोग करने के लिए तैयार हूं।

जो बाइडेन ने कहा- ट्रंप लोकतंत्र के लिए खतरा

अमेरिका के पूर्व उप राष्ट्रपति तथा डेमोक्रेटिक पार्टी से राष्ट्रपति पद के प्रमुख दावेदार जो बाइडेन ने कहा है कि ट्रंप लोकतंत्र के लिए खतरा है। बाइडेन ने ट्रंप के खिलाफ महाभियोग चलाने की मांग करते हुए कहा है कि ट्रंंप ने अपने पद की गरिमा का उल्लंघन किया है। बाइडेन ने कहा कि अमेरिका ने कभी अपने इतिहास में किसी राष्ट्रपति का ऐसा अकल्पनीय व्यवहार नहीं देखा होगा। ट्रंप ने अपने शब्दाें से और न्याय को रोकना जैसी कई गतिविधियों से खुद को दोषी दिखाया है। उन्होंने कहा कि अमेरिका की जनता यह स्पष्ट तरीके से देख सकती है कि ट्रंप ने राष्ट्र को धोखा दिया है और महाभियोग लायक कर्म किए हैं। संविधान, लोकतंत्र, बुनियादी एकता की रक्षा के लिए उन पर महाभियोग की प्रक्रिया चलाने की अपील की है। ट्रंप ने इसके जवाब में बाइडेन को भ्रष्टाचारी बताया।

व्हाइट हाउस ने पहले सहयोग करने से किया था इनकार

मालूम हो कि व्हाइट हाउस ने मंगलवार को कहा था कि डोनाल्ड ट्रंप महाभियोग की प्रक्रिया में सहयोग नहीं करेंगे। जानकारी के मुताबिक डेमोक्रेट्स प्रशासन के साथ मिलकर असहयोगात्मक और असंवैधानिक तरीके से अमेरिकी राष्ट्रपति को उनके पद से हटाने की प्रक्रिया अपना रहे हैं। इस मामले में व्हाइट हाउस ने डेमोक्रेट सांसदों को इस विषय पर पत्र भी भेजा था जिसमें व्हाइट हाउस के वकील पैट सिपोलोन ने कहा था कि महाभियोग की जांच के दौरान मूल अधिकारों और सवैधानिक नियमों को तोड़ा जा रहा हैं। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव स्टेफनी ग्रिशम ने भी इस पूरी महाभियोग की जांच को चुनावी लाभ बताते हुए कहा था कि ट्रंप ने कोई भी गलत काम नहीं किया है। गौरतलब है कि खत लिखे जाने के बाद ट्रंप ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि रिपब्लिकन पार्टी के वकील रखे जाने के अधिकार का हनन डेमोक्रेट जांचकर्ता कर रहे हैं। वे सही प्रक्रिया से काम नहीं कर रहे हैं और यह अब तक की सबसे अनुचित स्थिति है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Twitter

ट्विटर ने कहा-विश्व के नेताओं के अकाउंट को नियमों से पूरी तरह छूट नहीं

सैनफ्रांसिस्को : ट्विटर ने कहा है कि विश्व के नेताओं को इसके उन प्रतिबंधों से पूरी तरह छूट नहीं है, जिसमें उपयोगकर्ता हिंसा की धमकी आगे पढ़ें »

Mahatma Gandhi

विश्वविद्यालय के छात्रों ने मैनचेस्टर में गांधी की मूर्ति लगाये जाने का विरोध किया

लंदन : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्ति लगाये जाने के प्रस्ताव के खिलाफ ब्रिटेन में मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के छात्रों ने ‘मैनचेस्टर कैथेड्रल’ के बाहर एक आगे पढ़ें »

ऊपर