स्वदेशी क्रूज मिसाइल निर्भय का सफल परीक्षण

नई दिल्ली : भारत ने रक्षा क्षेत्र को और मजबूती प्रदान करने के उद्देश्य से एक और नई उपलब्धि हासिल की है। दुश्मनों को जंग के मैदान में धूल चटाने के लिए भारत ने 1000 किलोमीटर मारक क्षमता वाली सबसोनिक क्रूज मिसाइल ‘निर्भय का सफल परीक्षण कर लिया है। इसका परिक्षण सोमवार को ओडिशा के तट पर किया गया। यह पूर्णरूप से स्वदेश निर्मित मिसाइल है जिसे देश के डिफेंस रिसर्च एंड डेवल्पमेंट ऑर्गेनाइजेशन (डीआरडीओ) ने तैयार किया है। बता दें कि इससे पहले निर्भय सब सोनिक क्रूज मिसाइल का 5 बार परीक्षण किया जा चुका है जिनमें से दो परीक्षण असफल रहे थे।

5 बार किया जा चुका है परीक्षण

पूरी तरह से भारत में निर्मित इस मिसाइल का पहला परीक्षण 12 मार्च, 2013 को किया गया था। दूसरा परीक्षण साल 2014 में किया गया था तथा तीसरा परीक्षण अक्टूबर 2016 में किया गया था। दिसंबर 2016 में इसका चौथा परीक्षण किया गया था लेकिन अपने लक्ष्य से भटक जाने के कारण इसमें विस्फोट हो गया था जिस वजह से यह परीक्षण असफल रहा। पांचवा परीक्षण नवंबर, 2017 में ओडिशा के अब्दुल कलाम द्वीप से किया गया था।

क्या है सब सोनिक क्रूज मिसाइल की खासियत

डीआरडीयो द्वारा निर्मित यह सब सोनिक क्रूज मिसाइल निर्भय टू स्टेज मिसाइल है जिसकी लम्बाई 6 मीटर लंबी एवं चौड़ाई 0.52 मीटर है। वहीं इसका विंग्सस्पैन 2.7 मीटर लम्बा बनाया गया है। परमाणु क्षमता से युक्त, ठोस ईंधन से काम करने वाली इस मिसाइल की गति 0.6-0.7 तक है। इसका प्रक्षेपण वजन लगभग 1500 किलोग्राम है। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि निर्भय मिसाइल यहां से 1000 किलोमीटर दूर बैठे दुश्मनों को तबाह करने की ताकत रखता है। यानि की इसकी मारक क्षमता ब्रह्मोस से भी तीन गुना ज्यादा है। बता दें कि ब्रह्मोस की मारक क्षमता 290 किमी ही है।

इतना ही नहीं निर्भय एक ऐसी सबसोनिक लॉन्ग रेंज मिसाइल है जो जमीन पर मार करती है। इस मिसाइल के जरिए 300 किलोग्राम वारहेड ले जा सकते हैं। इस मिसाइल के सेना में शामिल होने के बाद भारत को रक्षा क्षेत्र में और मजबूती मिलेगी। बताया जा रहा है कि इसके सफल परीक्षण के बाद पूरा पाकिस्तान इसके घेरे में होगा।

कैसे काम करती है यह क्रूज मिसाइल

क्रूज मिसाइलें ऐसी मिसाइलें होती हैं जो कम ऊंचाई पर उड़ती हैं और इन्हें एक कंप्यूटर के जरिए गाइड करके निशाने को भेजा जा सकता है। भारत के पास पहले से ही क्रूज मिसाइलें मौजूद है जिनमें से ब्रह्मोस सबसे ताकतवर माना जाता है।

हालांकि भारत अब एक ऐसी ब्रह्मोस-ईआर मिसाइल बनाने के प्रयास में लगा हुआ है जिसकी मारक क्षमता 800 किमी की हो। आपको बता दें ‌कि इसके जरिए भारत के परमाणु क्षमता संपन्न हथियारों में और भी ज्यादा बढ़ोतरी हो सकेगी।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

प्रधानमंत्री मोदी पर आधारित वेब सीरीज पर चुनाव आयोग की रोक

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़ी एक वेब सीरिज 'मोदी जर्नी ऑफ अ कॉमन मैन' पर चुनाव आयोग ने रोक लगा दी है। निर्माताओं को ऑनलाइन कंटेंट हटाने का निर्देश दिया गया है। चुनाव आयोग ने शनिवार को [Read more...]

अब राहुल की नागरिकता पर ही उठे सवाल

लखनऊ: अमेठी से चुनाव लड़ रहे एक निर्दलीय उम्मीदवार ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की नागरिकता पर सवाल उठाए हैं। इस पर राहुल गांधी के वकील ने चुनाव आयोग से जवाब दाखिल करने के लिए समय मांगा। आयोग ने राहुल [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

फोर्ब्स ने जारी की अरबपतियों की सूचि, जानिए भारत की रैंकिंग

विकास के राह पर चल रहा है भारत, दुनिया के लिए अपार संभावनाएं: सिन्हा

विंग कमांडर अभिनंदन का कश्मीर से किया गया ट्रांसफर, सुरक्षा के मद्देनजर लिया गया फैसला

मतदान केंद्र पर चुनाव अधिकारी को आया हार्ट अटैक, सीआरपीएफ जवान ने सूझबूझ से बचाई जान

एक फोन के बदले गूगल ने क्यों ऑफर किए 10 नए स्मार्टफोन

साध्वी प्रज्ञा सिंह को चुनाव आयोग का नोटिस

कसाब जैसा आतंकी था वैसी ही आतंकी हैं साध्वी प्रज्ञा: प्रकाश आंबेडकर

दिग्विजय सिंह ने कहा- हिन्दुत्व शब्द मेरी डिक्शनरी में नहीं

रहाणे से छीन गई रॉयल्स की अगुवाई

स्पाइसजेट ने जेट एयरवेज के 500 कर्मचारियों को दिया रोजगार

ऊपर