हिंदू आतंकवाद की आरोपी प्रज्ञा देंगी दिग्विजय को टक्कर

भोपाल: मालेगांव विस्फोट मामले में लम्बे समय तक कानूनी प्रक्रिया का सामना कर चुकीं साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के भारतीय जनता पार्टी में औपचारिक तौर पर शामिल होने के बाद अब उन्हें भोपाल संसदीय क्षेत्र से पार्टी प्रत्याशी घोषित कर दिया है। साध्वी प्रज्ञा बुधवार को पार्टी के प्रदेश कायार्लय भी पहुंची थी। यहां उनकी पार्टी के कई आला नेताओं से मुलाकात हुई। प्रज्ञा ने मीडिया को बताया, ”मैं दिग्विजय सिंह के खिलाफ भोपाल सीट से चुनाव लड़ने के लिए पूरी तरह से तैयार हूं और ये चुनाव मैं जीतूंगी भी। उन्होंने कहा, ”मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मेरे साथ हैं।

उल्लेखनीय है कि 2008 के मालेगांव बम विस्फोट मामले में गिरफ्तारी के बाद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का नाम पहली बार चर्चाओं में आया था। इस मामले में वह जेल में भी रहीं।

यह मेरे लिए धर्मयुद्ध है- साध्वी प्रज्ञा

टिकट की घोषणा से पहले साध्वी प्रज्ञा ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा के संगठन महामंत्री रामलाल समेत कई नेताओं से मुलाकात की। भाजपा प्रदेश कार्यालय से निकलने के बाद साध्वी ने कहा कि मेरे लिए कोई चुनौती नहीं है। ये धर्मयुद्ध है और हम इसे जीतेंगे। मैंने पार्टी के कई नेताओं से मुलाकात की। सबने तय किया है कि हम राष्ट्र के विरुद्ध षड्यंत्र करने वालों के खिलाफ लड़ेंगे, क्योंकि राष्ट्र सुरक्षा पहले है और बाकी चीजें बाद में।

दिग्विजय सिंह की विरोधी 

साध्वी प्रज्ञा और दिग्विजय सिंह को एक दूसरे का धुर विरोधी माना जाता है। दिग्विजय सिंह कांग्रेस के उन चुनिंदा नेताओं में से एक हैं, जिन्होंने यूपीए सरकार के दौर में ‘भगवा आतंकवाद’ के मुद्दे को जोर-शोर से उठाया। शायद यही वजह है कि साध्वी प्रज्ञा चुनाव के मैदान में दिग्विजय सिंह को चुनौती देना चाहती हैं। साध्‍वी प्रज्ञा ठाकुर और दिग्विजय का मुकाबला इसलिए भी दिलचस्‍प होने वाला है क्‍योंकि दिग्विजय 16 साल बाद चुनाव लड़ने जा रहे हैं। साल 1993 से 2003 तक लगातार 10 सालों तक मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे दिग्विजय सिंह 2003 के बाद से अबतक किसी भी लोकसभा या विधानसभा चुनाव में नहीं लड़े हैं।

2008 में चर्चा में आईं प्रज्ञा ठाकुर

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर पहली बार तब चर्चा में आईं, जब 2008 के मालेगांव ब्लास्ट केस में उन्हें गिरफ्तार किया गया। वह 9 सालों तक जेल में रहीं और फिलहाल जमानत पर बाहर हैं। जमानत पर बाहर आने के बाद उन्होंने कहा था कि उन्हें लगातार 23 दिनों तक यातना दी गई थी।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

प्रधानमंत्री मोदी पर आधारित वेब सीरीज पर चुनाव आयोग की रोक

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़ी एक वेब सीरिज 'मोदी जर्नी ऑफ अ कॉमन मैन' पर चुनाव आयोग ने रोक लगा दी है। निर्माताओं को ऑनलाइन कंटेंट हटाने का निर्देश दिया गया है। चुनाव आयोग ने शनिवार को [Read more...]

अब राहुल की नागरिकता पर ही उठे सवाल

लखनऊ: अमेठी से चुनाव लड़ रहे एक निर्दलीय उम्मीदवार ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की नागरिकता पर सवाल उठाए हैं। इस पर राहुल गांधी के वकील ने चुनाव आयोग से जवाब दाखिल करने के लिए समय मांगा। आयोग ने राहुल [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

फोर्ब्स ने जारी की अरबपतियों की सूचि, जानिए भारत की रैंकिंग

विकास के राह पर चल रहा है भारत, दुनिया के लिए अपार संभावनाएं: सिन्हा

विंग कमांडर अभिनंदन का कश्मीर से किया गया ट्रांसफर, सुरक्षा के मद्देनजर लिया गया फैसला

मतदान केंद्र पर चुनाव अधिकारी को आया हार्ट अटैक, सीआरपीएफ जवान ने सूझबूझ से बचाई जान

एक फोन के बदले गूगल ने क्यों ऑफर किए 10 नए स्मार्टफोन

साध्वी प्रज्ञा सिंह को चुनाव आयोग का नोटिस

कसाब जैसा आतंकी था वैसी ही आतंकी हैं साध्वी प्रज्ञा: प्रकाश आंबेडकर

दिग्विजय सिंह ने कहा- हिन्दुत्व शब्द मेरी डिक्शनरी में नहीं

रहाणे से छीन गई रॉयल्स की अगुवाई

स्पाइसजेट ने जेट एयरवेज के 500 कर्मचारियों को दिया रोजगार

ऊपर