इस गांव में नाइटी पहनी तो भरना होगा जुर्माना

हैदराबाद : आंध्र प्रदेश के पश्चिम गोदावरी जिले के टोकलापल्‍ली गांव में महिलाओं ने पिछले नौ महीनों से दिन में नाईटी पहनना बंद कर दिया। इस अजीबों-गरीब फरमान के तहत महिलाएं सूर्र्याअस्त से पहले नाइटी नहीं पहन सकती हैं। अगर कोई महिला सूर्र्याअस्त से पहले नाइटी में दिखाई देती है तो उसे जुर्माना देना होगा। गांव के 9 बुजुर्गों की एक कमेटी ने आदेश दिया है कि नाइटी केवल रात में पहनने के लिए है इसलिए इसे दिन में न पहना जाए।
पहनने वाले पर 2 हजार जुर्माना, बताने वाले को इनाम –
इस कमेटी ने आदेश को लागू करवाने के लिए एक खास रणनी‍ति भी बनाई है जिसमें यह सुनिश्चित किया गया है कि गांव की 1800 महिलाओं में से कोई भी उनके आदेश का उल्लंघन न करे। अगर कोई महिला सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक नाइटी पहने हुए पाई जाती है तो उस पर 2 हजार रुपये जुर्माना लगाया जाएगा। वहीं अगर कोई महिला किसी महिला के दिन में नाइटी पहनने की सूचना देती है तो उसे 1 हजार रुपये का इनाम दिया जाएगा। अगर नाइटी पहनी हुई महिलाएं जुर्माना देने से मना करती हैं तो उसका सामाजिक बहिष्कार तक किया जा सकता है। उन्होंने यह भी कहा है कि इसके बारे में सरकारी अधिकारियों को कुछ न बताया जाए। कमेटी का कहना है कि जुर्माने की राशि को गांव के विकास कामों में खर्च किया जाता है। इस फरमान के डर से गांव की महिलाओं ने दिन में नाइटी पहना छोड़ दिया है।
गांव की सरपंच फंतासिया महालक्ष्‍मी ने कहा कि नाइटी पहनकर खुले में कपड़े धोना, दुकान से सामान लाना और बैठक में शामिल होना अच्‍छा नहीं है। उन्‍होंने कहा कि कुछ महिलाओं ने इस पर बैन लगाने के लिए बुजुर्गों से अनुरोध किया था। उन्‍होंने इस बात से साफ इन्‍कार किया कि जुर्माना नहीं देने पर सामाजिक बहिष्‍कार की धमकी दी गई है।
महिलाओं ने कहा अफवाह है –
हालांकि गांव में महिलाओं के नाइटी पर प्रतिबंध का आदेश नौ महीने पहले जारी हुआ था। लेकिन गुरुवार को राजस्‍व अधिकारियों के गांव का दौरा करने के बाद इस मामले का खुलासा हुआ। ये अधिकारी एक जांच के सिलसिले में टोकलापल्‍ली गांव गए थे जब गांव का दौरा किया तो कुछ ग्रामीणों ने बताया कि बुजुर्गों ने धमकी दी है कि यदि दोषी महिला ने जुर्माने का भुगतान नहीं किया तो उसका सामाजिक बहिष्‍कार किया जाएगा। ग्रामीणों ने यह भी बताया कि उन्हें किसी भी सरकारी अधिकारी को यह बात न बताने की चेतावनी दी गई है। राजस्व विभाग के अधिकारीयों ने अनुुसार गांव की कोई भी महिला इस फैसले के विरोध में नहीं है। महिलाओं का कहना है कि ये अफवाह है। वे इस आदेश से काफी खुश हैं और हमने अपनी परंपराओं के पालन के लिए ये फैसला लिया है। बुजुर्गों ने नाईटी पहनने के लिए निश्चित समय तय किया है। लेकिन नियम न मानने पर किसी तरह का जुर्माना नहीं लगता।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

इस बार एशेज में टूटेगी 142 साल पुरानी परंपरा

लंदन: एशेज के 142 साल के इतिहास में पहली बार इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीमें नाम और नम्बर वाली जर्सी पहनकर मैदान पर उतर सकती हैं। ब्रिटेन के एक अखबार की रिपोर्ट के अनुसार इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड [Read more...]

अब नाडा से भारतीय क्रिकेटरों का डोप टेस्ट कराने को तैयार है बीसीसीआई

मुंबईः भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) और सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति (सीओए) की आईसीसी अध्यक्ष शशांक मनोहर के साथ हुई बैठक के बाद फैसला लिया गया है कि अब बीसीसीआई और राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) साथ [Read more...]

मुख्य समाचार

इस बार एशेज में टूटेगी 142 साल पुरानी परंपरा

लंदन: एशेज के 142 साल के इतिहास में पहली बार इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीमें नाम और नम्बर वाली जर्सी पहनकर मैदान पर उतर सकती हैं। ब्रिटेन के एक अखबार की रिपोर्ट के अनुसार इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड [Read more...]

हॉटस्टार ने आज से शुरू किया वीआईपी पैकेज

नई दिल्ली : स्टार इंडिया की वीडियो स्ट्रीमिंग सेवा हॉटस्टार ने अपने प्लेटफॉर्म पर लाइव खेल प्रसारण एवं टीवी कार्यक्रमों को देखने के लिए नया पैकेज शुरू किया है। फिलहाल उसके दो सब्सक्रिप्शन विकल्प हैं- 199 रुपये प्रति महीने का [Read more...]

ऊपर