सपा-बसपा गठबंधन में नहीं मिली जगह अब आगे की रणनीति तय करेगी कांग्रेस

लखनऊ : लोकसभा चुनाव में 80 सीटों वाले उत्‍तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी को पटखनी देने के लिए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन में कांग्रेस को जगह नहीं मिली है। जिसके बाद नए सिरे से रणनीति तैयार करने के लिए कांग्रेस नेता और उत्तर प्रदेश के प्रभारी गुलाम नबी आजाद और अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी रविवार को लखनऊ पहुंच रहे हैं। उल्‍लेखनीय है कि सपा-बसपा गठबंधन हो जाने से उत्तर प्रदेश में कांग्रेस अकेली पड़ गयी है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अंशू अवस्थी ने शनिवार को कहा कि ‘गुलाम नबी आजाद, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और अन्य वरिष्ठ नेता रविवार को लखनऊ में बैठक कर आगे की रणनीति तय करेंगे। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश के सभी नेता और अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के सभी सचिव रविवार को यहां एक‌ित्रत रहेंगे। प्रदेश के प्रभारी गुलाम नबी आजाद ने एसपी-बीएसपी गठबंधन के बारे में सवाल पूछे जाने पर कहा कि वह राज्य के नेताओं से बैठक के बाद ही इस पर प्रतिक्रिया देंगे। उन्‍होंने कहा कि हम आगामी चुनावों की तैयारी के लिए जिले के हिसाब से नेताओं से मिल रहे हैं। पिछले दो दिनों में हमने पश्चिमी उत्‍तरप्रदेश के नेताओं से मुलाकात की है। रविवार को हम मध्‍य और प्रदेश के बाकी नेताओं से मिलेंगे। गौरतलब है कि शुक्रवार को कांग्रेस ने कहा था कि वह उत्‍तर प्रदेश में अकेले उतरने को तैयार है। पार्टी के मीडिया संयोजक राजीव बख्शी ने कहा कि हमारे पास कुल 45 लोकसभा सीटें हैं, जो कई क्षेत्रीय पार्टियों से ज्यादा हैं।

रालोद ने 5 सीटें मांगे थे
सपा-बसपा गठबंधन में जगह ना मिलने पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने कहा कि, शायद यही अंतिम बात नहीं है, हो सकता है कि चुनाव से पहले पुनर्विचार हो। उत्तर प्रदेश में एक व्यापक गठबंधन तैयार होगा। अगर जरूरी हुआ तो कांग्रेस पार्टी सिर्फ अपने दम पर ही चुनाव लड़ेगी।’ अजीत सिंह की आरएलडी भी गठबंधन का हिस्सा बनना चाहती थी और सपा तैयार भी थी लेकिन असल पेच सीटों के लेकर फंस गया। रालोद नेता व अजीत सिंह के पुत्र जयंत चौधरी ने पश्चिमी यूपी की 5 लोकसभा सीटों पर दावा पेश किया था। पर मायावती किसी भी कीमत पर आरएलडी को 2 सीटों से ज्यादा देने के लिए राजी नहीं थीं। अब जबकि, एसपी-बीएसपी ने अन्य संभावित दलों के लिए सिर्फ 2 सीटें छोड़ी हैं जो आरएलडी को शायद ही मंजूर हो। ऐसे में अटकलें लगाई जा रही हैं कि आरएलडी अब कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ सकती है।




एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

भारत चीन के दूसरे क्षेत्र एवं सड़क फोरम का बहिष्कार करेगा

बीजिंग : भारत ने बुधवार को चीन के दूसरे क्षेत्र एवं सड़क (बेल्ट एंड रोड) फोरम के बहिष्कार के संकेत देते हुये कहा कि कोई देश ऐसी किसी मुहिम का हिस्सा नहीं हो सकता है जो स्वायत्तता और क्षेत्रीय अखंडता [Read more...]

साल 2018 में प्रधानमंत्री ने एक करोड़ नौकरियां खत्म कर दीः राहुल

इंफाल : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को इंफाल में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर 2018 में एक करोड़ नौकरियां खत्म करने का आरोप लगाया है। इंफाल में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुये गांधी ने कहा कि मोदी [Read more...]

मुख्य समाचार

भारत चीन के दूसरे क्षेत्र एवं सड़क फोरम का बहिष्कार करेगा

बीजिंग : भारत ने बुधवार को चीन के दूसरे क्षेत्र एवं सड़क (बेल्ट एंड रोड) फोरम के बहिष्कार के संकेत देते हुये कहा कि कोई देश ऐसी किसी मुहिम का हिस्सा नहीं हो सकता है जो स्वायत्तता और क्षेत्रीय अखंडता [Read more...]

मैदान पर हुई एक क्रिकेटर की मौत

कोलकाताः एक बार फिर क्रिकेट के मैदान पर बड़ा हादसा हुआ जिसमें एक खिलाड़ी की मौत हो गई। ये घटना कोलकाता में घटी जहां बालीगंज स्पोर्टिंग क्लब की तरफ से बल्लेबाजी करते हुए सेकेंड डीविजन क्रिकेटर सोनू यादव की मौत [Read more...]

ऊपर