आखिरकार इंफोसिस को‌ मिल ही गया नया सीईओ

नई दिल्ली/बेंगलुरू: देश की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस को तीन माह की मशक्कत के बाद नया सीईओ मिल गया। कंपनी ने सलिल एस. पारेख को अपने नए सीईओ और एमडी के पद पर नियुक्त किया है। पारेख 2 जनवरी 2018 को अपना कार्यभार ग्रहण करेंगे।
कंपनी के चेयरमैन ने कहा…
इस बारे में कंपनी के निदेशक मंडल के चेयरमैन नंदन नीलेकणि ने कहा, कि सलिल पारेख के पास सूचना प्रौद्योगिकी के सेवा क्षेत्र में करीब तीन दशक का अनुभव है। अतीत के कई कारोबारों में प्रबंध करने का उनका शानदार रिकॉर्ड रहा है। ऐसे परिवर्तनकारी समय में इंफोसिस का नेतृत्व करने के लिए पारेख एकदम उचित व्यक्ति हैं। वर्तमान में यू. बी. प्रवीण राव कंपनी के अंतरिम सीईओ और एमडी का कार्यभार संभाल रहे हैं।
कौन हैं पारेख?
आपको बता दें कि इसके पूर्व पारेख कैपजेमिनी में पूरे समूह के कार्यकारी निदेशक मंडल के सदस्य रह चुके हैं। पारेख ने कॉर्नेल विश्वविद्यालय से कंप्यूटर साइंस एवं मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातकोत्तर की डिग्री ली है। उन्होंने स्नातक की डिग्री भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, बंबई से हासिल की है।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

पाकिस्तान डरा, संयुक्त राष्ट्र से भारत को रोकने की गुहार लगाई

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में केन्द्रीय आरक्षित सुरक्षा बल (सीआरपीएफ) के काफिले पर आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान की कूटनीतिक घेराबंदी शुरु कर दी है। इसके तहत भारत ने पाकिस्तान से सबसे पसंदीदा राष्ट्र का दर्जा [Read more...]

जलवायु परिवर्तन के कारण भारत में मौसमी स्थितियां बदल जाएंगीः शोध

वाशिंगटन : प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया है कि जलवायु परिवर्तन के कारण भारत समेत उत्तरी गोलार्ध के क्षेत्रों में मौसमी स्थितियां निष्क्रिय हो सकती हैं और भयंकर तूफान आ [Read more...]

मुख्य समाचार

पाकिस्तान डरा, संयुक्त राष्ट्र से भारत को रोकने की गुहार लगाई

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में केन्द्रीय आरक्षित सुरक्षा बल (सीआरपीएफ) के काफिले पर आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान की कूटनीतिक घेराबंदी शुरु कर दी है। इसके तहत भारत ने पाकिस्तान से सबसे पसंदीदा राष्ट्र का दर्जा [Read more...]

जलवायु परिवर्तन के कारण भारत में मौसमी स्थितियां बदल जाएंगीः शोध

वाशिंगटन : प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया है कि जलवायु परिवर्तन के कारण भारत समेत उत्तरी गोलार्ध के क्षेत्रों में मौसमी स्थितियां निष्क्रिय हो सकती हैं और भयंकर तूफान आ [Read more...]

ऊपर