असम में एनआरसी का अंतिम मसौदा जारी

3.29 करोड़ लोगों ने दिया था आवेदन * 2.9 करोड़ नाम दर्ज * 40 लाख नाम शामिल नहीं
गुवाहाटी : राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) का बहु-प्रतीक्षित दूसरा एवं आखिरी मसौदा 2.9 करोड़ नामों के साथ सोमवार को जारी कर दिया गया। एनआरसी में शामिल होने के लिए असम में 3.29 करोड़ लोगों ने आवेदन दिया था।
भारतीय महापंजीयक शैलेश ने कहा कि इस ऐतिहासिक दस्तावेज में 40.07 लाख आवेदकों को जगह नहीं मिली है। यह ‘ऐतिहासिक दस्तावेज’ असम का निवासी होने का प्रमाण पत्र होगा। एनआरसी का पहला मसौदा 31 दिसंबर और एक जनवरी की दरम्यानी रात जारी

शैलेश

किया गया था, जिसमें 1.9 करोड़ लोगों के नाम थे। शैलेश ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘यह भारत और असम के लिए एक ऐतिहासिक दिन है। इतने बड़े पैमाने पर कभी ऐसा नहीं हुआ। सीधे उच्चतम न्यायालय की निगरानी में की गयी यह एक कानूनी प्रक्रिया है।’ यह प्रक्रिया पारदर्शिता, निष्पक्षता और तर्कपूर्ण तरीके से की गयी। एनआरसी 25 मार्च 1971 से पहले से असम में निवास करने वाले सभी भारतीय नागरिकों के नाम इस सूची में शामिल करेगी। अंतिम मसौदे में जिन लोगों के नाम शामिल नहीं किए गए, उन पर शैलेश ने कहा, ‘मसौदे के संबंध में दावा करने और आपत्ति करने की प्रक्रिया 30 अगस्त से शुरू होगी और 28 सितंबर तक चलेगी। लोगों को आपत्ति जताने की पूर्ण एवं पर्याप्त गुंजाइश दी जाएगी। किसी भी वास्तविक भारतीय नागरिक को डरने की जरूरत नहीं है।’ एनआरसी की आवेदन प्रक्रिया मई 2015 में शुरू हुई थी और अभी तक पूरे असम से 68.27 लाख परिवारों के द्वारा कुल 6.5 करोड़ दस्तावेज प्राप्त किए गए हैं। उन्होंने जोर दिया कि यह केवल अंतिम मसौदा था और सभी दावों और आपत्तियों के निपटारे के बाद समग्र एनआरसी का प्रकाशन किया जाएगा। राज्य एनआरसी के मुख्य समन्वयक प्रतीक हाजेला ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के निर्देश के अनुसार अंतिम मसौदे से चार श्रेणियों के नाम छोड़ दिए गए हैं। ये व्यक्ति भारत के निर्वाचन आयोग और उनके वंशजों द्वारा संदेहजनक मतदाताओं को चिह्नित करते हैं, और जिनके संदर्भ विदेशी न्यायाधिकरण और उनके वंशजों में लंबित हैं। इस अवसर पर संयुक्त सचिव (एनई), गृह मंत्रालय, सत्येंद्र गर्ग ने भी सरकार के स्पष्ट रुख को दोहराया कि किसी भी व्यक्ति को विदेशी नहीं माना जा सकता है, जिसका नाम अंतिम मसौदे में नहीं पाया गया है। उन्होंने कहा, ‘ एनआरसी ड्राफ्ट में नाम शामिल करने के आधार पर विदेशी न्यायाधिकरण के संदर्भ में या हिरासत शिविर में कोई प्रश्न नहीं है।’

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

राहुल लाएंगे ऐसी मशीन, आदमी डालो तो औरत निकलेगी: नंदकुमार चौहान

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव से पहले नेताओं में बयानबाजी का दौर तेजी से चल रहा है। नेता बयान देने से पहले मर्यादा का भी ध्यान नही रख रहे हैं। ताजा मामला खंडवा से सामने आया है, जहां भारतीय [Read more...]

एशियाई चैम्पियनशिप : कविंदर बिष्ट ने विश्व चैम्पियन को हराया, पंघल भी सेमीफाइनल में

बैंकाक : एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप मुकाबले में 56 किलो भार वर्ग में भारत के कविंदर सिंह बिष्ट ने मौजूदा विश्व चैम्पियन कैराट येरालियेव को हराकर पहला पदक पक्का कर लिया है। वहीं ओलंपिक चैम्पियन हसनबोय दुस्मातोव को शिकस्त [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

आईपीएल फाइनल में बड़ा बदलाव, अब चेन्नई में नहीं बल्कि हैदराबाद के राजीव गांधी स्टेडियम में होगा मुकाबला

बीएसएन के इस प्रीपेड प्लान से 6 महीने तक जितनी मर्जी बात करें

उपराष्ट्रपति ने आतंकवाद के खात्मे के लिये विश्व समुदाय से एकजुट होने की अपील की

राहुल लाएंगे ऐसी मशीन, आदमी डालो तो औरत निकलेगी: नंदकुमार चौहान

शुभ मुहूर्त के चलते साध्वी प्रज्ञा ने किया एक दिन पहले किया नामांकन

दो चीनी इंजीनियरों को 72 घंटे के अंदर भारत छोड़ने का मिला नोटिस

एशियाई चैम्पियनशिप : कविंदर बिष्ट ने विश्व चैम्पियन को हराया, पंघल भी सेमीफाइनल में

कंगाल होते पाकिस्तान को एफडीआई में सुधार से कुछ राहत

महबूबा मुफ्ती का पाकिस्तान प्रेमः कहा-हमारे न्यूक्लियर बम दिवाली के लिए नहीं तो, पाक के भी…

श्रीनगर: एलओसी पार से व्यापार पर रोक के खिलाफ व्यापारियों का प्रदर्शन

ऊपर