जिन्हें भारत का संविधान पसंद नहीं, उन्हें यहां रहने का ‌अधिकार नहीं : केंद्रीय मंत्री अठावले

athawle

महाराष्ट्र : रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) के प्रमुख तथा केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने बृहस्पतिवार को कहा कि जिसे संविधान पसंद नहीं उन्हें देश में रहने का कोई अधिकार नहीं। उन्होंने कहा कि इस संविधान की रचना बी आर अंबेडकर की देखरेख में हुई था और इसे दुनिया की विधि की सबसे श्रेष्ठ पुस्तक माना जाता है। अठावले ने कहा, हमारा संविधान जो कि दुनिया में सर्वश्रेष्ठ है, इसे अगर कोई पसंद नहीं करता तो वह देश छोड़ दे। बता दें कि वह पार्टी की 62वीं वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। आरपीआई की स्‍थापना तीन अक्टूबर, 1957 में नागपुर में हुई थी। पार्टी हर साल यह कार्यक्रम आयोजित करती है।

अठावले ने महाराष्ट्र में मंत्री पद की मांग की

गौरतलब है ‌कि महाराष्ट्र में आगामी विधानसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद अठावले ने कहा था कि भाजपा और शिवसेना छोटे मुद्दों की अनदेखी कर अपनी ताकत के आधार पर सीटों का बंटवारा करें। हालांकि, उन्होंने मांग की थी कि महाराष्ट्र की अगली सरकार में आरपीआई को एक कैबिनेट मंत्री और एक राज्यमंत्री का पद मिले।

288 में से 240-250 सीटों पर जीतेंगे

बता दें कि हाल ही में महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव को लेकर अठावले ने कहा था कि महाराष्ट्र में भाजपा, शिवसेना और कई छोटे दलों का सत्तारूढ़ गठबंधन 21 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनावों में 240 से 250 सीटों पर जीत हासिल करेगा। महाराष्ट्र विधानसभा में 288 सीटें हैं, नतीजे 24 तारीख को आएंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ऑस्ट्रेलिया टी-20 वर्ल्ड कप की भारत से अदला-बदली चाहता है, बीसीसीआई राजी नहीं

नयी दिल्‍ली : कोरोनावायरस के कारण इस साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाला टी-20 वर्ल्ड कप का टलना लगभग तय है। इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने आगे पढ़ें »

बंगाल में 277 नये लोग हुए कोरोना वायरस संक्रमण से संक्रमित, 7 की हुई मौत

कोलकाता : कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के ​लिए लागू लॉकडाउन के 66वें दिन शुक्रवार को जारी बुलेटिन के अनुसार बंगाल में पिछले 24 घंटे आगे पढ़ें »

ऊपर