12 साल बाद दोस्त को देखकर प्रोटोकॉल भूले राष्ट्रपति कोविंद, मंच पर बुलाकर लगाया गले

kovind

नई दिल्ली : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दोस्ती की एक शानदार मिसाल पेश की है। इस रिश्ते में जाति-धर्म, पद, कद और पैसा कोई मायने नहीं रखते हैं, इसी बात को सच करते हुए राष्ट्रपति ने प्रोटोकॉल तोड़ा और भीड़ में बैठे अपने दोस्त को अपने पास मंच पर बैठाया। दरअसल, रविवार को राष्ट्रपति कोविंद ओडिशा के उत्कल विश्वविद्यालय के ‘प्लेटिनम जुबली समारोह’ में शिरकत करने पहुंचे थे। राष्ट्रपति के आने की सूचना मिलते ही वहां दर्शकों की भारी भीड़ पहुंची। इस दौरान राष्ट्रपति कोविंद ने उस भीड़ में बैठे अपने एक 12 साल पुराने दोस्त को देखा, जिससे मिलने के लिए उन्होंने प्रोटोकॉल भी भुला दिया।

अपने दोस्त को पगड़ी से पहचाना

राष्ट्रपति ने भीड़ में बैठे अपने दोस्त को पगड़ी से पहचाना, फिर उन्होंने केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान से कहा की कि कार्यक्रम के बाद वह उनके मित्र को मंच पर बुला लाएं। जब दोनों मिले, तो उन्होंने एक-दूसरे को गले से लगा लिया। मालूम हो कि राष्ट्रपति के वह दोस्त बीरभद्र सिंह हैं।

दोनों दोस्तों ने 2 साल तक साथ काम किया

सिंह ने बताया कि साल वह 2000 से 2006 तक राज्यसभा में एससी-एसटी कमेटी के सदस्य थे। उस वक्त राष्ट्रपति भी इसके सदस्य थे। इन दोनों दोस्तों ने 2 साल तक साथ काम किया। सिंह ने यह भी बताया कि वे राष्ट्रपति से 12 साल बाद मिल रहे हैं, लेकिन उनका अंदाज पहले जैसा ही था। ओडिशा के पूर्व राज्यसभा सदस्य बीरभद्र ने कहा कि वह राष्ट्रपति के इस व्यवहार से बेहद खुश थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भारतीय गेंदबाजी में किसी भी टीम को सस्ते में समेटने की काबिलियत : स्वान

कोलकाता : इंग्लैंड के पूर्व ऑफ स्पिनर ग्रीम स्वान ने बुधवार को कहा कि जसप्रीत बुमराह की अगुआई वाला भारतीय गेंदबाजी आक्रमण किसी भी टीम आगे पढ़ें »

ब्लैकवुड का आरोप, इंग्लिश टीम स्लेजिंग कर रही थी

मैनचेस्टर : पहले टेस्ट में वेस्टइंडीज की जीत में अहम भूमिका निभाने वालों में शामिल रहे बल्लेबाज जर्मेन ब्लैकवुड ने कहा है कि उनकी मैच आगे पढ़ें »

ऊपर