जनाकांक्षाएं पूरा करने के पहल की जरूरतः प्रणव

पटनाः राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने शुक्रवार को कहा कि बिहार और झारखंड एक ऐसे चौराहे पर खड़ा है, जहां से उन्हें जनता की अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए सही राह पकड़नी है और समाज को सही दिशा में गतिमान बनाने के लिए राजनीतिक पहल की जरूरत है।
प्रणव मुखर्जी ने यहां एशियन डेवलपमेंट रिसर्च इंस्टीट्यूट (आद्री) के रजत जयंती समारोह का उद्घाटन करने के बाद सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि प्रचुर क्षमताओं के बावजूद राजनीतिक और सामाजिक कारणों से दोनों राज्य पिछड़ रहे हैं। दोनों राज्यों की क्षमता एवं विकास की प्राथमिकताओं के बीच व्यापक अंतर रहा है। इस वजह से दोनों राज्य ऐसे चौराहे पर खड़े हैं, जहां से उन्हें ऐसी राह पकड़नी है, जिस पर चलकर वे जनता की आकांक्षाओं को पूरा कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि इतिहास गवाह है कि इन लक्ष्यों की प्राप्ति समाज को गतिमान बनाकर और राजनीतिक पहल से की जा सकती है। राष्ट्रपति ने कहा कि औपनिवेशिक काल की विरासत, आजादी के बाद का विकास पैटर्न, सामाजिक बदलाव, लगातार हुए पलायन, जाति आधारित राजनीति, पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी, राष्ट्रीय स्तर पर पहचान का प्रश्न और सामाजिक न्याय की मांग कुछ ऐसे कारण रहे, जिसकी वजह से आज बिहार और झारखंड प्राकृतिक संसाधनों की प्रचुरता के बावजूद जनता की आकांक्षाएं पूरी नहीं कर पा रहे हैं। राष्ट्रपति ने कहा, ‘हमें विकास के लाभ से अछूते रहे बिहार और झारखंड जैसे राज्यों के बारे में गंभीरता से विचार करना होगा। नीति निर्माताओं को इन क्षेत्रों के बारे में विकास की ऐसी रणनीति तैयार करनी होगी कि ये राज्य अर्थव्यवस्था के विकास में अपनी क्षमता के अनुरूप भागीदारी सुनिश्चित कर सकें। ऐसे राज्यों को आंख मूंदकर केवल उद्योगीकरण के मार्ग पर चलने से बचना होगा।’ उन्होंने कहा कि इन राज्यों में आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए इनके मानव संसाधन की अपार क्षमता पर ध्यान देना होगा। दुनिया में कुछ ऐसे उदाहरण हैं, जो बताते हैं कि पिछड़े क्षेत्रों के विकास के लिए वहां के मानव संसाधन का विकास वैकल्पिक रणनीति हो सकती है। इसके तहत इन क्षेत्रों के अकुशल मानव संसाधन को प्रशिक्षण देकर वस्तु एवं सेवाओं का कुशल प्रदाता बनाया जा सकता है। विकास की इस वैकल्पिक रणनीति के अंतर्गत शिक्षा के क्षेत्र में प्राथमिकता के आधार पर निवेश बढ़ाना होगा। उन्होंने कहा कि शिक्षा का यह कतई अर्थ नहीं है कि केवल शिक्षित व्यक्ति को ही आर्थिक लाभ होगा बल्कि इससे लोग सशक्त होंगे, जिससे विकास कार्यक्रमों और राजनीतिक प्रक्रियाओं में इनकी भागीदारी को बढ़ावा मिलेगा।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

राहुल लाएंगे ऐसी मशीन, आदमी डालो तो औरत निकलेगी: नंदकुमार चौहान

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव से पहले नेताओं में बयानबाजी का दौर तेजी से चल रहा है। नेता बयान देने से पहले मर्यादा का भी ध्यान नही रख रहे हैं। ताजा मामला खंडवा से सामने आया है, जहां भारतीय [Read more...]

एशियाई चैम्पियनशिप : कविंदर बिष्ट ने विश्व चैम्पियन को हराया, पंघल भी सेमीफाइनल में

बैंकाक : एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप मुकाबले में 56 किलो भार वर्ग में भारत के कविंदर सिंह बिष्ट ने मौजूदा विश्व चैम्पियन कैराट येरालियेव को हराकर पहला पदक पक्का कर लिया है। वहीं ओलंपिक चैम्पियन हसनबोय दुस्मातोव को शिकस्त [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

आईपीएल फाइनल में बड़ा बदलाव, अब चेन्नई में नहीं बल्कि हैदराबाद के राजीव गांधी स्टेडियम में होगा मुकाबला

बीएसएन के इस प्रीपेड प्लान से 6 महीने तक जितनी मर्जी बात करें

उपराष्ट्रपति ने आतंकवाद के खात्मे के लिये विश्व समुदाय से एकजुट होने की अपील की

राहुल लाएंगे ऐसी मशीन, आदमी डालो तो औरत निकलेगी: नंदकुमार चौहान

शुभ मुहूर्त के चलते साध्वी प्रज्ञा ने किया एक दिन पहले किया नामांकन

दो चीनी इंजीनियरों को 72 घंटे के अंदर भारत छोड़ने का मिला नोटिस

एशियाई चैम्पियनशिप : कविंदर बिष्ट ने विश्व चैम्पियन को हराया, पंघल भी सेमीफाइनल में

कंगाल होते पाकिस्तान को एफडीआई में सुधार से कुछ राहत

महबूबा मुफ्ती का पाकिस्तान प्रेमः कहा-हमारे न्यूक्लियर बम दिवाली के लिए नहीं तो, पाक के भी…

श्रीनगर: एलओसी पार से व्यापार पर रोक के खिलाफ व्यापारियों का प्रदर्शन

ऊपर