वारिस पठान का भड़काऊ भाषण, कहा- 100 करोड़ पर भारी हैं हम 15 करोड़

waris

बेंगलुरु : हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के राष्ट्रीय प्रवक्ता वारिस पठान ने बेहद विवादित बयान दिया है। कर्नाटक के गुलबर्गा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए हिन्दू-मुस्लिम के बीच दंगा फैलाने वाला बयान दिया है। पठान ने बिना नाम लिए कहा कि ‘100 करोड़ (हिंदुओं) पर 15 करोड़ (मुस्लिम) भारी पड़ेंगे।’ उन्‍होंने कहा कि अगर आजादी दी नहीं जाती तो छीनना पड़ेगा। पठान के इस बयान के बाद राजनीति तेज हो गई है।

अगर हम सब एक साथ आ गए तो क्‍या होगा

मुंबई के भायखला से विधायक वारिस पठान ने यह भी कहा कि ईंट का जवाब पत्‍थर से देना हमने सीख लिया है। मगर इकट्ठा होकर चलना होगा। अगर आजादी दी नहीं जाती तो हमें छीनना पड़ेगा। वे (सरकार) कहते हैं कि हमने औरतों को आगे रखा है। अभी तो केवल शेरनियां बाहर निकली हैं तो तुम्‍हारे पसीने छूट गए। तुम समझ सकते हो कि अगर हम सब एक साथ आ गए तो क्‍या होगा। 15 करोड़ (मुस्लिम) हैं लेकिन 100 (करोड़ हिंदू) के ऊपर भारी हैं। ये याद रख लेना।

वारिस पठान के विवादित बयान से गरमाई राजनीति

इससे पहले 5 फरवरी को वारिस पठान ने माना था कि उसी ने मुंबई के नागपाड़ा इलाके में शाहीन बाग की तरह से विरोध प्रदर्शन आयोजित किया था। पठान के इस बयान के बाद राजनीति काफी गरम हो चुकी है। वहीं वीएचपी और मुस्लिम मौलवियों ने पठान के इस बयान की आलोचना की। साथ ही उन्‍होंने कहा कि इस तरह के बयान घृणा को जन्‍म देते हैं।

इस तरह के बयान देश के लिए नुकसान दायक

मुस्लिम मौलवियों ने कहा कि हिंदू मुसलमान के साथ और मुसलमान हिंदू के साथ खड़ा है। इस तरह के बयान से देश को नुकसान होगा और लोगों के हाथ खून से सनेंगे। साथ ही उन्‍होंने पुछा कि 15 मिनट में सारे हिंदुओं को खत्‍म कर देंगे क्‍या? बता दें कि इससे पहले ओवैसी ने कहा था कि 15 मिनट हिंदुओं को खत्‍म कर देंगे,जिसके बाद काफी बवाल हुआ था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों को मेरे खेल के खत्म होने के बारे में लिखने की आदत है, मुझे फर्क नहीं : सुशील

नयी दिल्ली : दिग्गज पहलवान सुशील कुमार उम्र के ऐसे पड़ाव पर है जहां ज्यादातर खिलाड़ी संन्यास की घोषणा कर देते है लेकिन ओलंपिक में आगे पढ़ें »

कोरोना से हुए नुकसान को कम करने के लिए सरकार जल्द नए राहत पैकेजों की घोषणा करेगी

नई दिल्ली : कोरोना के कारण हुए लॉक डाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हुआ है। वित्त मंत्रालय लगातार राहत पैकेज पर आगे पढ़ें »

ऊपर