दिल्ली के रिहाइशी इलाके की फैक्ट्री में आग, 43 लोगों की मौत

fire

नई दिल्ली : राष्ट्रीय राजधानी में रानी झांसी रोड पर अनाज मंडी स्थित एक फैक्ट्री में रविवार सुबह आग लगने से 43 श्रमिकों की मौत हो गई और कई लोग झुलस गए। पुलिस ने बताया कि एक आवासीय इलाके में चल रही फैक्ट्री में आग लगने के समय 59 लोग अंदर थे। आग लगने की जानकारी सुबह 5.22 बजे मिली जिसके बाद दमकल के 30 वाहन घटनास्थल पर पहुंचे। एलएनजेपी अस्पताल के डायरेक्टर किशोर सिंह ने बताया कि ज्यादातर मौतें दम घुटने से हुईं। अस्पताल में अन्य मरीजों के लिए इमरजेंसी सेवाएं बंद कर दी गई हैं। इस घटना में मरने वाले लोग ज्यादातर बिहार के रहने वाले मजदूर थे।

इलाका संकीर्ण होने से रेस्क्यू में हुई मुश्किल

दमकल विभाग के अफसर सुनील चौधरी ने बताया कि फैक्ट्री में बैग्स, बॉटल और अन्य मटैरियल रखे हुए थे। इस वजह से आग तेजी से फैली। इलाका संकीर्ण होने से रेस्क्यू में मुश्किल आई। उन्होंने बताया कि कई फंसे हुए लोगों को बाहर निकाला गया है और उन्हें आरएमएल अस्पताल, एलएनजेपी और हिंदू राव अस्पताल पहुंचाया गया है।

लोगों को मरने की मुख्य वजह दम घुटना

वहीं एलएनजेपी के चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर किशोर सिंह ने बताया कि इस अस्पताल में 34 लोगों को मृत लाया गया था और लोगों के मरने की पीछे की मुख्य वजह धुएं की चपेट में आकर दम घुटना है। कुछ शव जले हुए थे। उन्होंने बताया कि एलएनजेपी में लाए गए 15 झुलसे लोगों में से नौ निगरानी में हैं और कई आंशिक रूप से झुलसे हैं।

रिश्तेदारों का हुआ बुरा हाल

घटनास्थल पर हृदय विदारक दृश्य पसरा हुआ था। फैक्ट्री में काम कर रहे लोगों के रिश्तेदार और स्थानीय लोग घटनास्थल की ओर भाग रहे थे। आग की चपेट में आए लोगों के परेशान परिवार विभिन्न अस्पतालों में अपने संबंधियों को खोज रहे थे। मृतकों और झुलसे लोगों को विभिन्न अस्पतालों में ले जाया गया है। बिहार के बेगूसराय के रहनेवाले 23 वर्षीय मनोज ने बताया कि उनका 18 साल का भाई इस हैंडबैग बनाने वाली इकाई में काम करता है। उन्होंने कहा कि ‘मेरे भाई के दोस्त से मुझे जानकारी मिली कि वह इस घटना में झुलस गया है। मुझे कोई जानकारी नहीं है कि उसे किस अस्पताल में ले जाया गया है।’ एक अज्ञात बुजुर्ग व्यक्ति ने कहा, ‘कम से कम इस इकाई में 12-15 मशीनें लगी हुई हैं। मुझे इसकी जानकारी नहीं है कि फैक्ट्री मालिक कौन है।’ उन्होंने बताया कि उनके 3 रिश्तेदार इस फैक्ट्री में काम करते हैं। व्यक्ति ने कहा, ‘मेरे संबंधी मोहम्मद इमरान और इकरमुद्दीन फैक्ट्री के भीतर ही थे और मुझे इसकी जानकारी नहीं है कि अब वे कहां हैं।’ उन्होंने बताया कि इस परिसर में कई इकाइयां चल रही हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सीएए और एनआरसी को लेकर मेयर ने बोला हमला

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : मेयर और मंत्री फिरहाद हकीम ने सीएए और एनआरसी को लेकर एक बार फिर केंद्र सरकार पर हमला बोला। रविवार को रक्तदान आगे पढ़ें »

ईस्ट वेस्ट मेट्रोः इस महीने शुरु होने की उम्मीदें बढ़ीं

नए जीएम ने मेट्रो परियोजना का किया निरीक्षण सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः साल्टलेक स्टेडियम से साल्टलेक सेक्टर-5 तक मेट्रो परियोजना के शुरू होने की उम्मीदें एक बार फिर आगे पढ़ें »

ऊपर