सीमा पर ड्रोन के खतरों से निपटने के लिए बीएसएफ ले रहा तकनीकी सहारा : डीजी

dg

नयी दिल्ली : सुरक्षा बल भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा पर ड्रोन के खतरे से निपटने के लिए तकनीकी समाधान पर काम कर रहा है। यह कहना है सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के महानिदेशक वी के जौहरी का। जौहरी ने बताया कि बल ने पाकिस्तान और बांग्लादेश के साथ लगती 6,386 किलोमीटर लंबी सीमाओं की रक्षा करने के लिए नयी प्रौद्योगिकी और खुफिया तंत्र का इस्तेमाल कर ‘रणनीतिक क्षमताओं’ का विस्तार किया है।

कश्मीर और पंजाब सीमा काफी संवेदनशील

यहां बीएसएफ के एक शिविर में सुरक्षा बल के 55वें स्थापना दिवस समारोह में जौहरी ने कहा कि हाल के समय में कश्मीर में नियंत्रण रेखा और पंजाब में अंतरराष्ट्रीय सीमा ‘काफी संवेदनशील’ हो गई हैं। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ समय से पाकिस्तान से लगी पश्चिमी सीमा पर ड्रोन से जुड़ी गतिविधियों की खबरें मिली हैं और इससे निपटने के लिए तकनीकी हल पर काम हो रहा है तथा महत्वपूर्ण कदम उठाए जा रहे हैं।

इस दिन हुई थी बीएसएफ की स्‍थापना

बीएसएफ की स्थापना एक दिसंबर 1965 को हुई थी। आंतरिक सुरक्षा के अलावा बीएसएफ का मुख्य काम भारत-पाकिस्तान सीमा क्षेत्र की निगरानी करना है। बता दें कि बीएसएफ द्वारा हर साल बाघा बॉर्डर पर विशेष कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। दरअसल, वाघा बॉर्डर भारत और पाकिस्तान के बीच एक अहम स्थान है। वाघा पर वर्ष 1959 से समारोह का आयोजन किया जा रहा है। इस समारोह का मुख्य उद्देश्य दोनों देशों के बीच आपसी सहयोग और सौहार्द का माहौल बनाना है। गौरतलब है कि यह कार्यक्रम बीटिंग रिट्रीट समारोह के नाम से मशहूर है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Radha Ashtami 2023: राधा अष्टमी पर अगर पहली बार रखने जा …

कोलकाता : हिंदू धर्म में भाद्रपद मास के शुक्लपक्ष की अष्टमी की तिथि को बहुत ज्यादा धार्मिक महत्व माना गया है क्योंकि इस दिन भगवान आगे पढ़ें »

Fukrey 3 Review: वास्को डी गामा के डायलोग से ‘चूचा’ की कॉमेडी तक, पढ़ें फिल्म का रिव्यू

नई दिल्ली: बड़े पर्दे पर कॉमेडी मूवी 'फुकरे 3' रिलीज हो गई है। फिल्म में पुलकित सम्राट के अलावा मनजोत, वरुण शर्मा, पंकज त्रिपाठी और आगे पढ़ें »

ऊपर