भाजपा की रणनीति से तीन राज्यों की विपक्षी पार्टियों को लग सकता है झटका

BJP flag

नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव 2019 के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अब हरियाण, महाराष्ट्र और झारखंड में होने वाली विधानसभा चुनाव के लिए कमर कस ली है। ऐसे में माना जा रहा है कि तीनों राज्यों में चुनाव से पहले भाजपा अपनी रणनीति से विपक्षीय पार्टियों को बड़ा झटका दे सकती है। पार्टी की ओर से अनुमान लगाया जा रहा है कि इन राज्यों में होने वाले चुनाव से पहले विपक्षीय पार्टी के दर्जनों दिग्गज नेता भाजपा में शामिल हो सकते है। दरअसल, लोकसभा चुनाव में विपक्षीय पार्टी को मिली करारी हार के बाद कुछ महीने पहले ही इन राज्यों से 10 राज्यसभा सांसद समेत कई विधायक और दिग्गज नेता भाजपा में शामिल हुए थे।

तीनों राज्यों में भाजपा का सरकार

महाराष्ट्र, झारखंड और हरियाणा में पहले से ही भाजपा की सरकार है। ऐसे में तीनों प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में विपक्षी पार्टियों को जीत हासिल करने के लिए काफी मुश्किलों से गुजरना पड़ सकता है। बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र में होने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा अपने सहयोगी दल शिवसेना के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी। हरियाणा और झारंखड में भाजपा चुनाव से पहले स्‍थानीय पार्टीयों को अपना सहयोगी दल बना सकती है। वहीं भाजपा प्रमुख नेता का कहना है कि तीनों राज्यों में पार्टी की जड़ बेहद मजबूत है। साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा अपने सहयोगी दल को अकेला छोड़ने वालों में से नहीं है, वो अपने सहयोगी दलों को साथ लेकर चलने वाली पार्टी है। आगे उन्होंने कहा कि भाजपा देश की सबसे ताकतवर और बड़ी पार्टी है, पार्टी की रणनीति और नेतृत्व को देखते हुए कोई विपक्षी नेता या लोग जुड़ना चाहते है तो उनका स्वागत है।

हरियाणा में विपक्षी पार्टी अपने अस्तित्व बचाने की तैयारी में जुटे है

हरियाणा में ओमप्रकाश चोटाला की इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) पार्टी दो भागों में बट चुकी है। इनेलो पार्टी भाजपा को चुनौती के बजाए अपने अस्तित्व को बचाने में जुटी है। वहीं दूसरी ओर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुडा के बागी नेताओं के आचरण से कांग्रेस पार्टी लाचार है। भाजपा के प्रमुख नेता ने कहा कि विपक्षीय पार्टी के कई नेता हमारी पार्टी के संपर्क में है। उनका मानना है कि प्रदेश में भाजपा को चुनौती देने के लिए विपक्ष के पास दम नहीं है। साथ ही उन्होंने कहा कि हरियाण और महाराष्ट्र को छोड़कर झारखंड में भाजपा की रणनीति अगल है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आपके बेटे को कोई नुकसान नहीं पहुंचाऊंगा – बाबुल

देवाजंन की मां ने लगायी बाबुल से बेटे को माफ करने की गुहार कोलकाता : सोशल मीडिया पर उनके बेटे की पोस्ट वायरल हुई है जिसमें आगे पढ़ें »

राजीव कुमार की हो सकती है हत्या – सोमेन

कोलकाता : एक ओर जहां कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को सीबीआई दिन - रात ढूंढ रही है तो वहीं इस बीच, प्रदेश आगे पढ़ें »

ऊपर