झारखंड हाई कोर्ट का बड़ा फैसला- राज्य में बिहारियों को नहीं मिलेगा आरक्षण

jharkhand

रांची : झारखंड उच्च न्यायालय ने सोमवार को अपने फैसले में कहा कि बिहारियों को प्रदेश में किसी प्रकार का कोई आरक्षण नहीं मिलेगा। बिहार के सभी मूल निवासियों पर यह व्यवस्‍था लागू होगी। बिहार के निवासी रंजीत कुमार ने झारखंड पुलिस बहाली में आरक्षण का लाभ मांगते हुए याचिका दायर की थी। इसी याचिका पर सुनवाई के बाद उच्‍च न्‍यायालय की विस्तृत पीठ के दो न्यायाधीशों ने यह फैसला सुनाया है। हालांकि पीठ के एक न्यायाधीश इस फैसले के हक में नहीं थे। बता दें कि वर्ष 2000 में बिहार से अलग होकर एक नया राज्य झारखंड बना जहां आज भी बड़ी तादात में बिहारी रहते हैं।

सालों से झारखंड में रहने के बावजूद नहीं मिला आरक्षण

याचिकाकर्ता ने यह कहते हुए आरक्षण की मांग की थी कि एकीकृत बिहार, वर्तमान बिहार और मौजूदा झारखंड में उनकी जाति अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के रूप में शामिल है और नये राज्य झारखंड के निर्माण के बाद 15 नवंबर 2000 से वह अपने परिवार के साथ लगातार झारखंड क्षेत्र में रह रहा है। रंजीत ने याचिका में कहा है कि बिहार का स्‍थाई निवासी होने के कारण उन्हें आरक्षण के लाभ से वंचित नहीं किया जा सकता है।

केवल झारखंड के स्थायी निवासियों को ही मिलेगा लाभ

वहीं, याचिकाकर्ता की इस दलील का विरोध करते हुए झारखंड सरकार की ओर से कहा गया था केवल उसी व्यक्ति को राज्य की आरक्षण नीति के तहत लाभ दिया जा सकता है जो कि झारखंड का स्थाई निवासी है। झारखंड उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश एचसी मिश्र, एवं अपरेश कुमार सिंह तथा बीबी मंगलमूर्ति की खंडपीठ ने पिछले साल अक्टूबर में इस मामले की सुनवाई पर फैसला सुरक्षित रख लिया था। उल्लेखनीय है कि न्यायालय द्वारा सोमवार को लिया गया फैसला राज्य में बड़े पैमाने पर बिहारियों को प्रभावित करेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मूडीज इन्वेस्टर्स ने बैंकिंग सेक्टर के लिए अनुमान स्थिर से नेगेटिव किया

नई दिल्ली : देश में कोरोना के प्रसार को देखते हुए मूडीज इन्वेस्टर्स ने भारतीय बैंकिंग सिस्टम के लिए अपने अनुमान को स्थिर से बदल आगे पढ़ें »

पीएम केयर्स फंड में दो साल का वेतन देंगे गौतम गंभीर

नयी दिल्ली : क्रिकेटर से राजनीतिज्ञ बने गौतम गंभीर ने गुरुवार को कोविड-19 महामारी से बचाव के लिये सांसद के तौर पर अपना दो साल आगे पढ़ें »

ऊपर