पंजाब में 4 खालिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, भारी मात्रा में हथियार जब्त

punjab

चंडीगढ़ : विदेशों में बैठे खालिस्तान समर्थकों द्वारा पंजाब को दहलाने की बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है। पंजाब पुलिस ने रविवार को तरनतारन के चोहला साहिब से खालिस्तान समर्थक 4 आतंकियों को गिरफ्तार किया। ये आतंकी खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स से संबंधित हैं जिसे पाकिस्तान और जर्मनी स्थित समूहों का समर्थन हासिल है। पुलिस ने कहा कि आतंकी समूह पंजाब और पड़ोसी राज्यों में धमाके की साजिश रच रहा था। इन आतंकियों के पास से पांच एके-47 राइफल, पिस्तौल, सेटेलाइट फोन और हथगोलों समेत भारी मात्रा में हथियार बरामद किये गए हैं। एक आधिकारिक प्रवक्ता के अनुसार, इस साजिश की गंभीरता को देखते हुए मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने आगे की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को सौंपने का फैसला किया है।

हथियारों को ड्रोन से भेजा गया

शुरुआती जांच में यह पता चला है कि हथियारों की खेप अमृतसर सीमा में उतारने के लिए मिनी ड्रोन का इस्तेमाल हुआ था। , मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार से अनुरोध किया है कि वह वायुसेना और सीमा सुरक्षा बल को जरूरी जवाबी कदम उठाने के निर्देश दे। पंजाब के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिनकर गुप्ता ‘‘वे सफेद रंग की एक मारुति स्विफ्ट कार का इस्तेमाल कर रहे थे जिस पर पंजाब का नंबर था।’’ उन्होंने संदेह जताया कि कि इन हथियारों की आपूर्ति आईएसआई द्वारा अपने नियंत्रण में काम करने वाले राज्य प्रायोजित जिहादियों और खालिस्तान समर्थक आतंकी संगठनों को हाल में की गई।

जम्मू-कश्मीर और पंजाब निशाने पर

गुप्ता ने एक बयान में कहा, ‘‘बड़ी मात्रा में घुसपैठ से यह लगता है कि इसका उद्देश्य घाटी में हाल में हुए घटनाक्रम के बाद जम्मू-कश्मीर, पंजाब और भारत के दूसरे इलाकों में आतंकवाद और उग्रवाद को बढ़ावा देना है।’’ गुप्ता ने कहा कि यह अभियान सूत्रों द्वारा दी गई उस जानकारी पर आधारित था कि प्रतिबंधित केजेडएफ के कार्यकर्ता जम्मू-कश्मीर, पंजाब और अन्य राज्यों में कई आतंकी हमलों को अंजाम देने की साजिश कर रहे हैं।

स्‍थानीय स्‍लीपर सेल्स की मदद ली जा रही

दिनकर गुप्ता ने कहा कि इस मॉडूल को पाकिस्तान स्थित केजेडएफ प्रमुख रंजीत सिंह उर्फ नीटा और उसके जर्मनी स्थित सहयोगी गुरमीत सिंह उर्फ बग्गा उर्फ डॉक्टर का समर्थन था जो पंजाब में आतंकवाद को फिर से भड़काने के लिये अपने संगठन को फिर से संगठित कर रहे हैं। स्थानीय स्लीपर सेल्स की मदद से उन्होंने स्थानीय सदस्यों की पहचान कर उनमें कट्टरवाद का जहर भरा और भर्ती की। इसके अलावा सीमा पार से धन और अत्याधुनिक हथियारों की व्यवस्था की गई। उन्होंने कहा कि गिरफ्तार किये गए लोगों में बलवंत सिंह उर्फ बाबा उर्फ निहंग, आकाशदीप सिंह उर्फ आकाश रंधावा, हरभजन सिंह और बलबीर सिंह के रूप में हुई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ममता की हुंकार : नहीं होने देंगे एनआरसी

सागरदिघी (मुर्शिदाबाद) : राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर राजनीतिक बहस बढ़ती ही जा रही है। बुधवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हुंकार भरते हुए आगे पढ़ें »

डीआरआई का रेड और नोटों की बारिश

कोलकाता : महानगर के डलहौसी इलाके के बेन्टिक स्ट्रीट में बुधवार की दोपहर बाद अचानक एक कामर्शियल बिल्डिंग से नोटों की बारिश होने लगी। घटना आगे पढ़ें »

ऊपर