ये कैसे हुआ? माता-पिता एशियाई और बच्चे पैदा हुए अंग्रेज!

न्यूयॉर्क : न्यूयॉर्क में भ्रूण बदलने का पहला मामला सामने आया है जो अमेरिका की अदालत तक पहुंच चुका है। डिलीवरी के बाद नवजात बदलने की घटनाओं से तो हम सभी वाकिफ हैं पर भ्रूण बदलने के इस मामले ने सबका ध्यान अपनी ओर खींच लिया है। दरअसल, एशियाई दंपती ने बच्चा न होने पर फर्टिलिटी क्लीनिक में आईवीएफ ट्रीटमेंट करवाया। डिलीवरी के बाद जब उन्हें लगा कि ये बच्चे उनके नहीं हैं तो उन्होंने डीएनए टेस्ट करवाया, जिससे पता चला कि वास्तव में दोनों बच्चे उनके नहीं हैं।
आखिर क्या हैं मामला?
मीडिया रिपोर्ट से मिली जानकारी के मुताबिक एशियाई दंपत्ति पिछले साल आईवीएफ ट्रीटमेंट के लिए सीएचए फर्टिलिटी क्लीनिक गए थे। दंपत्ति के स्पर्म और एग की मदद से क्लीनिक ने 5 भ्रूण तैयार किए थे जिनमें से 4 लड़कियों और एक लड़के का भ्रूण था। पहला प्रयास असफल रहने के बाद सितंबर में की गई दूसरी कोशिश में महिला गर्भवती हुई और सोनोग्राफी जांच में दो जुड़वा बच्चों की पुष्टि भी हुई। हैरान करने वाली बात यह है कि दोनों भ्रूण लड़के के थे जबकि आईवीएफ प्रक्रिया के दौरान तैयार उनके पांच भ्रूण में से सिर्फ एक ही लड़के का था।
क्लीनिक के सह-मालिक से की शिकायत
इस घटना के बाद दंपत्ति ने क्लीनिक के सह-मालिक से इस बात ‌कि शिकायत की। वहीं क्लीनिक का कहना था कि सोनोग्राफी एकदम सही जानकारी देने वाली जांच नहीं है और उन्हें सिर्फ इसके परिणाम पर यकीन नहीं करना चाहिए। मालूम हो कि महिला ने दो बच्चों को जन्म दिया और दोनों ही एशियाई नहीं थे जबकि दंपत्ति एशिया के रहने वाले थे।
डीएनए टेस्ट से हुआ खुलासा
डिलीवरी के बाद डीएनए टेस्ट से पता चला कि दोनों ही बच्चे उनके नहीं हैं। दोनों ही बच्चे अलग-अलग दंपत्ति के थे और इसी कारण से बच्चों को उनके असली माता-पिता को सौंप दिया गया।
बता दें कि इस ट्रीटमेंट के दौरान दंपती ने 68 लाख रुपए खर्च किए थे जिसमें डॉक्टर की फीस, दवाएं, जांच और यात्रा का खर्च भी शामिल है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

murshidabad

5 मिनट में उसने शिक्षक समेत तीनों को उतारा था मौत के घाट !

कोलकाता : मुर्शिदाबाद में तीहरे हत्याकांड की गुत्थी आखिरकार पुलिस ने सुलझा ली है, ऐसा दावा है पुलिस का। इस मामले में पुलिस ने मुख्य आगे पढ़ें »

मौका मिले तो आठवां ओलंपिक खेलना चाहूंगा : पेस

मेलबोर्न : भारत के लीजेंड टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस के दिल में आठवां ओलंपिक खेलने की लालसा बरकरार है और यदि उन्हें मौका मिलता है आगे पढ़ें »

महिला क्रिकेट रैंकिंग : स्मृति मंधाना ने गंवाया पहला स्थान, मिताली की लंबी छलांग

डेनमार्क ओपन : सिंधू व प्रणीत डेनमार्क ओपन के दूसरे दौर में पहुंचे

आदिल के गोल से भारत ने बांग्लादेश को बराबरी पर रोका

Praful Patel

ईडी ने प्रफुल्ल पटेल को भेजा समन, इकबाल मिर्ची की बिल्डिंग में है फ्लैट

Car crash

उत्तराखंड : कार खाई में गिरी, परिवार के तीन सदस्याें समेत पांच की मौत

Sonali Phogat

सबसे ज्‍यादा सर्च की जाने वाली हरियाणा की नेता बन गई हैं सोनाली,खट्टर और हुड्डा को छोड़ा पीछे

train

दैनिक रेलयात्रियों के लिए 12 नयी पैसेंजर ट्रेनें चलेंगी

afghan

अफगानिस्तान में चुनाव प्रचार के दौरान हिंसा में 85 आम लोग मारे गए, 373 घायल : संयुक्त राष्ट्र

ऊपर