जम्मू कश्मीर के राज्यपाल का विवादित बयान, उन्हें मारो जिन्होंने कश्मीर को लूटा

Governor of Jammu and Kashmir Satyapal Malik

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक अपने वेबाक बयानों के कारण चर्चा में बने रहते हैं। कारगिल लद्दाख टूरिज्म फेस्टिवल 2019 के उद्घाटन के दौरान रविवार को कारगिल के खरी सुल्तान चू स्टेडियम में उन्होंने ऐसा बयान दे डाल जिसने सभी को चौंका दिया। उन्होंने आतंकवादियों से कहा कि वे सुरक्षाकर्मियों एवं बेगुनाहों की हत्या करना बंद करें। साथ ही उन्होंने कहा‌ कि इसके बजाय उन्हें उन लोगों को मारना चाहिए जिन्होंने कश्मीर की दौलत को लूटा है। मलिक ने कहा कि जिन लड़कों ने हाथों में बंदूकें उठा ली हैं वे फिजूल में अपने लोग, निजी सुरक्षा और विशेष पुलिस अधिकारियों की हत्या कर रहे हैं। इनकी हत्या करने से क्या होगा? इससे कुछ हासिल नहीं होगा। बल्कि उन्हें मारो जिन्होंने तुम्हारे मुल्क को लूटा है।

श्रीलंका में लिट्टे का उदाहरण दिया

राज्यपाल का कहना था कि हिंसा या बंदूक किसी समस्या का समाधान नहीं निकाल सकते। उन्होंने श्रीलंका के आतंकी संगठन लिबरेशन टाइगर ऑफ तमिल इलम (एलटीटीटीइ) का उदाहरण देते हुए कहा कि लिट्टे को भी समर्थन था पर अब वह भी समाप्त हो गया है। चुनावों में कम मतदान प्रतिशत पर राज्यपाल ने कहा कि नेताओं में प्रतिनिधित्व क्षमता नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने प्रमुख नेताओं पर तंज कसते हुए कहा कि ये नेता दिल्ली में कुछ और कश्मीर में कुछ और ही बोलते हैं।

सरकार बंदूक के आगे कभी नहीं झुकेगी

सत्यपाल मलिक ने घाटी में हिंसा के दौर को खत्म करने का अनुरोध करते हुए कहा कि बंदूक से कुछ हासिल नहीं होगा। भारत सरकार कभी बंदूक के आगे नहीं झुकेगी। उन्होंने आतंकवादियों से अपील की वे हिंसा का मार्ग नहीं अपनाए। पर्यटन पर चर्चा करते हुए मलिक ने कहा कि करगिल और लेह में पर्यटन की बहुत संभावनाएं हैं इसलिए इन जगहों पर पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उत्सवों की जरूरत है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

dead

निर्भया मामले में अपराधियों को तिहाड़ जेल नंबर-3 में दी जाएगी फांसी, तैयारियां शुरू

नई दिल्ली : निर्भया के चारों दोषी तिहाड़ जेल में बंद है। राष्ट्रपति की ओर से इन दोषियों को फांसी देने वाली दया याचिका पर आगे पढ़ें »

सरकारी कंपनियों के रणनीतिक विनिवेश में ढिलाई पर कैग ने किए सवाल

नई दिल्ली : सरकारी कंपनियों के रणनीतिक विनिवेश के लक्ष्य की प्राप्ति में ढिलाई पर कैग ने सरकार पर सवाल खड़ा करते हुए कहा है आगे पढ़ें »

ऊपर