केदारनाथ में मोदी गुफा का क्रेज, साधना के लिए आ रहे हैं लोग

देहरादून: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोगों के बीच इतने लोकप्रिय होते जा रहे हैं कि अब लोग उन्हें न केवल सोशल मीडिया पर फॉलो कर रहे हैं बल्कि असल जिंदगी में भी फॉलो करने लगे हैं। दरअसल, लोकसभा चुनाव के नतीजे आने से पहले प्रधानमंत्री ने उत्‍तराखंड के केदारनाथ में दर्शन किये थे और वहां गुफा में साधना भी की थी। उनके इस गुफा में साधना के बाद से कई लोगों ने इस गुफा में साधना की है। बता दें कि जो श्रद्धालु यहां आ रहे हैं उनमें से कुछ 1500 रुपये देकर गुफा के अंदर 24 घंटे अकेले साधना कर रहे है।
ऑनलाइन बुकिंग सुविधा भी उपलब्‍ध
इस गुफा साधना करने के लिए ऑनलाइन बुकिंग की सुविधा भी उपलब्‍ध है। यही नहीं यह गुफा अगले 10 दिनों के लिए बुक भी हो गई है।
देहरादून स्थित गढ़वाल विकास निगम के महाप्रबंधक बीएल राणा ने कहा, ‘लोगों की प्रतिक्रिया शानदार है। अब तक करीब 20 लोग इस गुफा में रुक चुके हैं। हमें देशभर से बड़ी संख्‍या में बुकिंग हो रही है और लोग इसके बारे में जानना चाहते हैं। सभी बुकिंग ऑनलाइन हो रही है।’
बनानी पड़ रही है दूसरी गुफा
राणा ने बताया कि गुफा की मांग की हालत यह है कि हमें एक दूसरी गुफा बनानी पड़ रही है। उनके मुताबिक चूंकि यह पूरी तरह से कृत्रिम गुफा नहीं है, इसलिए दूसरी गुफा बनाने में टाइम लग रहा है। उन्‍होंने बताया कि प्राकृतिक चट्टानों में बदलाव लाकर गुफा का निर्माण कराया जा रहा है। इसगुफा में  एक बार में एक ही आदमी रह सकता है।
क्या है नियम
राणा ने बताया कि जिन्हें गुफा के अंदर रुकना है, उन्‍हें बुकिंग की तिथि से दो दिन पहले गुप्‍तकाशी पहुंचना होगा जो केदारनाथ मंदिर का बेस कैंप है। यहां उनकी चिकित्सकीय जांच होगी। इसके बाद श्रद्धालुओं को या तो पैदल या हेलिकॉप्‍टर की मदद से मंदिर जाना होगा। वहां पर दूसरी बार उनकी चिकित्सकीय जांच होगी।
बताते चलें कि जब 18 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस गुफा में ध्‍यान लगाने गए थे, तब कई नेताओं ने इसका विरोध किया था और चुनाव आयोग में इसकी यह कहते हुए शिकायत दर्ज की थी कि इससे चुनाव प्रभावित होगा। लेकिन चुनाव आयोग ने इसे एक धार्मिक यात्रा बताते हुए उनकी मांग को खारिज कर दिया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Jagdip Dhankhar

धनखड़ के खिलाफ विधान सभा से संसद तक मोर्चाबंदी

कोलकाता : ऐसा पहली बार हुआ है जब विधानसभा में सत्ता पक्ष ने धरना दिया। कारण थे राज्यपाल जगदीप धनखड़, जिन पर विधेयकों को मंजूरी आगे पढ़ें »

मेरे कंधे पर बंदूक रखकर चलाने की को​शिश न करें – धनखड़

कोलकाता : राज्यपाल जगदीप धनखड़ और तृणमूल सरकार के बीच संबंधों में मंगलवार को और खटास आ गयी जब उन्होंने ‘कछुए की गति से काम आगे पढ़ें »

ऊपर