अयोध्या आतंकी हमले पर 14 साल बाद फैसला, 4 को उम्रकैद, एक बरी

अयोध्या: अयोध्या के राम जन्मभूमि परिसर में 2005 में हुए आतंकी हमले में मंगलवार को प्रयागराज की विशेष अदालत ने फैसला सुनाया। इस हमले के 4 दोषियों को उम्रकैद की सजा दी गई, जबकि एक को बरी कर दिया गया। विशेष जज एससी/एसटी दिनेश चंद्र की अदालत में दोनों पक्षों की बहस 11 जून को ही पूरी हो चुकी थी।
63 गवाहों के बयान दर्ज किए गए
सुनवाई के दौरान 63 गवाहों के बयान दर्ज किए जाने के बाद कोर्ट ने फैसला सुनाने की तिथि 18 जून को तय की थी। सुरक्षा कारणों से फैसला प्रयागराज की नैनी सेन्ट्रल जेल के अस्थायी विशेष अदालत में सुनाया गया, जहां आतंकी हमले के पांचों आरोपी इरफान, मोहम्मद शकील, मोहम्मद नसीम, मोहम्मद आजीज और आसिफ इकबाल उर्फ फारूख बंद थे।
क्या था मामला
बताते चलें कि आतंकी बतौर भक्त अयोध्या में घुसे, पूरे इलाके की रेकी की और टाटा सूमो में ही सफर किया। हमले से पहले आतंकियों ने राम मंदिर के दर्शन भी किए थे। गाड़ी में ही सवार होकर आतंकी राम जन्मभूमि परिसर में आए और सुरक्षा घेरा तोड़ते हुए घुस गए, वहां पर ग्रेनेड फेंक कर हमला किया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शतरंज पर नहीं पड़ा कोविड-19 का असर, अन्य खेल ठप पड़े

चेन्नई : ऐसे समय में जब कोविड-19 महामारी के चलते दुनिया भर में खेल गतिविधियां ठप्प पड़ी हैं, तो शतरंज एक ऐसा खेल है जो आगे पढ़ें »

भारत को दो विश्व कप जिताने वाले कप्तान ने कहा, पद्म श्री नहीं, सरकारी नौकरी चाहिए

नई दिल्ली : भारत को दो बार ब्लाइंड वर्ल्ड कप क्रिकेट जिताने वाले कप्तान शेखर नाइक इस समय वित्तीय संकट से जूझ रहे हैं। यही आगे पढ़ें »

ऊपर