मोहन भागवत के नाम से मुसलमान और दलितों को मारने की वायरल फर्जी पोस्ट, यह है सच्‍चाई

फेसबुक तथा अन्य सोशल साइट्स पर संघ प्रमुख मोहन भागवत का एक बयान वायरल हो रहा है। वायरल फोटो के मुताबिक, भागवत मुसलमानों और दलितों को खत्म करने की बात कह रहे हैं। इस फोटो की पड़ताल करने पर पता चला है यह झूठी है। मोहन भागवत ने इस तरह का कोई बयान नहीं दिया है। वायरल हो रही पोस्ट फर्जी है।

मुसलमानों और दलितों को खत्म करना है

मोहन भागवत के नाम से वायरल हो रहे फोटो में लिखा हुआ है‌ कि, पहले इस देश से मुसलमानों को खत्म करना है फिर दलितों (एससी एसटी ओबीसी) का आरक्षण खत्म करना है सिर पर बैठे हुए हैं ये संविधान की वजह से। जय मनुवाद, जय परशुराम।

सच्चाई क्या है

मामले की पड़ताल करने पर भागवत द्वारा दिया गए बयान सामने आ गए। उन्होंने एक बयान में कहा था कि, अगर कोई मुसलमानों को खत्म करने की बात करता है तो वो हिंदु नहीं है। वहीं, साल 2017 में जयपुर में हुई एक सभा में उन्होंने आरक्षण का समर्थन किया था। उन्होंने कहा था कि इस देश का दुर्भाग्य है कि जातीभेद चलता रहा। समाज का एक बहुत बड़ा वर्ग पिछड़ गया। संघ से संबंधित एक व्यक्ति ने इस मामले पर बात की। उन्होंने कहा कि, यह वायरल बयान फर्जी है। मोहन भागवत द्वारा इस तरह को कोई भी बयान जारी नहीं किया गया है। इससे यह साफ होता है कि वायरल फोटो फर्जी और भ्रामक है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सुरक्षा के लिए फेसबुक का नया फीचर

सोशल मीडिया पर बच्चों पर होने वाले दुर्व्यवहार को रोकने के लिए फेसबुक काफी तेजी से काम कर रहा है। मैसेंजर को सुरक्षित बनाने के आगे पढ़ें »

अब एक साथ 50 लोग कर सकेंगे इंस्टाग्राम पर वीडियो काॅल

सोशल नेटवर्किंग साइट इंस्टग्राम पर अब एक साथ 50 लोग वीडियो चैट कर सकेंगे। हाल ही में फेसबुक की ओर से नया मैसेंजर रूम सर्विस आगे पढ़ें »

ऊपर