पंचतत्व में विलीन हुए सिद्धार्थ शुक्ला, बारिश के बीच दी गई मुखाग्नि

मुंबईः एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला का शुक्रवार को साढ़े तीन बजे ओशिवारा श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार ब्रह्मकुमारी रीति-रिवाजों के मुताबिक किया गया। सिद्धार्थ बचपन से ही इस संस्था से जुड़े थे। श्मशान घाट पर सेलेब्रिटीज और फैंस की भीड़ ने उन्हें अंतिम विदाई दी। इस मौके पर सुशांत सिंह राजपूत की यादें ताजा हो गईं।

सिद्धार्थ के अंतिम संस्कार पर भी बारिश हो रही है और सुशांत के वक्त पर भी ऐसा ही था। सुशांत के वक्त भी बहनें श्मशान तक आई थीं, सिद्धार्थ की मां और बहनें भी आई हैं। उनकी गर्लफ्रेंड शहनाज भी बदहवासी की हालत में पहुंची हैं। सुशांत के वक्त उनकी गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती भी पहुंची थीं।

आखिरी वक्त सिद्धार्थ के साथ मौजूद थीं गर्लफ्रेंड शहनाज
सिद्धार्थ की तबीयत बुधवार रात बिगड़ गई थी। गुरुवार सुबह जब वे नहीं उठे तो फैमिली डॉक्टर को बुलाया गया था। डॉक्टर की सलाह पर उनकी बहन प्रीती और बहनोई कूपर अस्पताल ले गए। जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। जिस वक्त सिद्धार्थ घर में बेसुध थे, उस वक्त शहनाज भी वहां मौजूद थीं।

मौत से ठीक एक दिन पहले सिद्धार्थ शुक्‍ला का मूवमेंट आम दिनों के मुकाबले अलग था। वे अक्‍सर डिनर घर पर ही अपनी मां के साथ करते थे। बुधवार की रात उन्‍होंने वह भी नहीं किया। सिर्फ छाछ पी और कुछ फ्रूट्स खाए। फिर तीन घंटे टीवी और मोबाइल पर शोज देखे। रात ढाई बजे मां से पानी मांगा और पानी पीकर सोने चले गए। सुबह साढ़े सात बजे उनकी मां ने कमरे में उन्‍हें पीठ के बल सोया पाया। सिद्धार्थ अक्‍सर करवट लेकर सोया करते थे। कुछ देर बाद अजीब महसूस होने पर मां ने डॉक्‍टर को बुलाया।

मौत की वजह नहीं बताई; 20 दिन बाद आने वाली फॉरेंसिक रिपोर्ट का इंतजार
सिद्धार्थ शुक्ला की पोस्टमॉर्टम की रिपोर्ट कूपर हॉस्पिटल की ओर से मुंबई पुलिस को सौंप दी गई है। कुछ देर में आधिकारिक तौर पर मुंबई पुलिस यह खुलासा करेगी कि 40 साल के अभिनेता की मौत की असली वजह क्या थी। ओशिवारा पुलिस स्टेशन के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, रिपोर्ट में सिद्धार्थ की बॉडी पर कोई भी बाहरी चोट के निशान नहीं मिले हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

भाजपा सोच भी नहीं सकती कि ऐसे बड़े नेता आना चाहते हैं तृणमूल में – फिरहाद

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : बाबुल सुप्रियो के बाद और कई बड़े नाम जल्द तृणमूल से जुड़ने जा रहे हैं। ऐसा ही संकेत दिया राज्य के परिवहन आगे पढ़ें »

ऊपर